close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: लोकसभा चुनाव को लेकर BJP की तैयारियां शुरू, कार्यशाला का आयोजन

कार्यशाला बीजेपी प्रदेश कार्यालय में आयोजित की गई, जिसमें भारतीय जनता पार्टी के लोकसभा चुनाव प्रभारी प्रकाश जावड़ेकर शामिल हुए

राजस्थान: लोकसभा चुनाव को लेकर BJP की तैयारियां शुरू, कार्यशाला का आयोजन
बैठक में लोकसभा चुनाव सह-प्रभारी सुधांशु त्रिवेदी, प्रदेश संगठन महामंत्री चन्द्रशेखर मौजूद थे

जयपुर: बीजेपी ने 'मिशन लोकसभा' को लेकर कमर कस ली है. इसी कड़ी में बीजेपी ने राजस्थान में एक कार्यशाला का आयोजन किया. यह कार्यशाला बीजेपी प्रदेश कार्यालय में आयोजित की गई. जिसमें भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं प्रदेश प्रभारी अविनाश राय खन्ना, केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री एवं लोकसभा चुनाव प्रभारी प्रकाश जावड़ेकर, भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय सह-संगठन महामंत्री वी. सतीश, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष मदनलाल सैनी, राष्ट्रीय प्रवक्ता एवं लोकसभा चुनाव सह-प्रभारी सुधांशु त्रिवेदी, प्रदेश संगठन महामंत्री चन्द्रशेखर मौजूद थे. 

इस कार्यशाला में बीजेपी ने लोकसभा चुनाव को लेकर तमाम अहम मुद्दों पर चर्चा की. सभी मंत्रियों ने कार्यशाला में मौजूद तमाम नेताओं के सामने अपनी बात रखी.  कार्यशाला में लोकसभा प्रभारी, लोकसभा संयोजक, लोकसभा सह-संयोजक, मीडिया प्रमुख, मीडिया सह-प्रमुख, सोशल मीडिया प्रभारी, सोशल मीडिया सह-प्रभारी, लीगल प्रभारी, लीगल सह-प्रभारी, लाभार्थी संयोजक, लाभार्थी सह-संयोजक, लोकसभा विस्तारक, जिलाध्यक्ष मौजूद रहे. 

bjp

बता दें कि हाल ही में राजस्थान बीजेपी के विधायक दल की बैठक की थी. खबरों के मुताबिक पार्टी की बैठक 'पार्टी विद द डिफरेंस' का दावा करने वाली बीजेपी के नेताओं के बाच मतभेद भी खूब नजर आया. जहां प्रदेश अध्यक्ष मदनलाल सैनी के भाषण के दौरान जमकर टोकाटोकी हुई.

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सैनी के भाषण के बीच हुई इस टोंकाटोकी की चर्चा राज्य के राजनीतिक गलियारों में भी रही. वहीं, पार्टी के कुछ कार्यकर्ता यह भी सवाल पूछ रहे थे कि क्या राष्ट्रीय महामंत्री इसी तरह वसुंधरा राजे या प्रकाश जावड़ेकर के भाषण में टोकने की हिम्मत दिखा सकते थे? इस तरह विधायकों और पदाधिकारियों के सामने प्रदेश अध्यक्ष का सम्मान नहीं होगा, तो फिर पार्टी के पदाधिकारी और नेता अपने अध्यक्ष का सम्मान किस तरह करेंगे.

वहीं जब प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उनके इस रवैये को लेकर सवाल हुआ तो अरुण सिंह ने भी पूरी बात खबरनवीसों पर डाल दी. राष्ट्रीय महामंत्री ने कहा कि कुछ पत्रकार भाषण लंबा होने की बात कह रहे थे इसी के चलते उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष को बीच में टोका गया था. उन्होंने कहा कि नेता प्रतिपक्ष की घोषणा के बाद भाषण का नहीं सिर्फ शुभकामनाएं देने का दिन था. राष्ट्रीय महामंत्री और ऑब्जर्वर किसी को भाषण के दौरान टोक भी सकते हैं.

हालांकि प्रदेश में बीजेपी के दूसरे नेता भी यही कहते नजर आए की पार्टी में नेताओं या कार्यकर्ताओं के बीच किसी प्रकार का कोई मतभेद नहीं है. वहीं बीजेपी विधानसभा चुनाव में हार के बाद अब लोकसभा चुनाव को लेकर किसी भी तरह का कोई रिस्क नहीं लेना चाहती है. यही वजह है कि लोकसभा चुनाव को लेकर बीजेपी ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी है.