close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान सरकार ने तय की किसानों से खरीद की तारीख, हुई रिकॉर्ड खरीद

सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने बताया कि खरीद में पहली बार बायोमैट्रिक सत्यापन एवं एक ही मोबाइल पर एक फसल का पंजीकरण किसानों के हित में प्रारम्भ किया हैं. 

राजस्थान सरकार ने तय की किसानों से खरीद की तारीख, हुई रिकॉर्ड खरीद
प्रतीकात्मक तस्वीर

जयपुर: राज्य सरकार ने समर्थन मूल्य पर किसानों से खरीद की समय सीमा तय कर दी. राज्य में समर्थन मूल्य पर सरसों और चना की 29 जून तक, गेंहू की 30 जून तक खरीद जारी रहेंगी. कोटा संभाग में सरसों की खरीद 12 जून को पूरी हो चुकी हैं जबकि चना खरीद 22 जून तक होगी. पहली बार एक ही सीजन में 19 जून तक 2 लाख 75 हजार 44 किसानों से 5.80 लाख मेट्रिक टन सरसों की रिकार्ड खरीद की गई हैं. जिसकी राशि 2 हजार 438 करोड़ रूपये हैं. 2018 में इसी अवधि में 1 लाख 61 हजार 952 किसानों से मात्र 4.45 लाख मीट्रिक टन सरसों की खरीद हुई थी जिसकी राशि मात्र 1 हजार 780 करोड़ रूपये थी. इस प्रकार गत सीजन की तुलना में 658 करोड़ रूपये की अधिक सरसों की खरीद हुई हैं.

सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने बताया कि खरीद में पहली बार बायोमैट्रिक सत्यापन एवं एक ही मोबाइल पर एक फसल का पंजीकरण किसानों के हित में प्रारम्भ किया हैं. जिसका नतीजा रहा कि सरसों के लिये 3.55 लाख किसानों ने पंजीकरण कराया था. जिसमें से 20 जून तक 3.52 लाख किसानों को उपज बेचान की दिनांक आवंटित कर दी गई हैं तथा शेष 2 हजार 575 किसानों को अगले सप्ताह तक दिनांक आवंटित कर उपज खरीद को सुनिश्चित कर दिया जायेगा.

प्रबंध निदेशक राजफैड़ ज्ञानाराम ने बताया कि राजफैड़ के स्तर से तहसीलवार किसानों को फायदा देने के लिए पंजीकरण की सुविधा उपलब्ध कराई गई. जिसके कारण एक और स्थानीय किसानों को फायदा मिला. वहीं दूसरी ओर सुगम रूप से सरसों की रिकॉर्ड खरीद संभव हो पाई. उन्होंने बताया कि बारदाने की किसी प्रकार से समस्या खरीद के दौरान नहीं आई. उन्होंने बताया कि बारदाने को लेकर खरीद केन्द्रों के विशेष मॉनिटंरिग की गई और किसानों के हित को ध्यान में रखते हुए 10 दिन का अतिरिक्त बारदाना रिजर्व में रखा गया.

20 जून तक सरसों, चना एवं गेहूं के लिए 5 लाख 3 हजार 37 किसानों ने पंजीकरण कराया था. जिसमें से 4 लाख 99 हजार 512 किसानों को उपज बेचान की दिनांक आंवटित कर दी गई हैं तथा 7.28 लाख मीट्रिक टन की उपज 3 लाख 33 हजार 414 किसानों से खरीदी गई हैं। जिसकी राशि 3 हजार 12 करोड़ रूपये हैं.