close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: अपराधियों के खिलाफ पुलिस ने नहीं की कार्रवाई, धरने पर बैठे नाराज ग्रामीण

इस घटना की जानकारी मिलने के बाद ग्रामीणों ने तीन आरोपियों को पकड़ कर पुलिस को सुपुर्द किया था लेकिन पुलिस ने बिना कार्रवाई किए ही अपराधियों को छोड़ दिया.

राजस्थान: अपराधियों के खिलाफ पुलिस ने नहीं की कार्रवाई, धरने पर बैठे नाराज ग्रामीण
फाइल फोटो

जालोर: जिले के झाब पुलिस थाना का बुधवार को तीसरे दिन ग्रामीणों का घेराव और विरोध प्रदर्शन जारी रहा. इस दौरान ग्रामीणों ने दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग करते हुए धरना जारी रखा. धरने में आसपास के गांवों के सैंकड़ों ग्रामीण मौजूद रहे. जानकारी के अनुसार 15 अगस्त को तेजाराम देवासी के साथ कुछ बदमाशों ने दिनदहाड़े आंखों में रेत डालकर कानों में पहनी सोने की मुरकी लूट कर भाग गए थे. 

इस घटना की जानकारी मिलने के बाद ग्रामीणों ने तीन आरोपियों को पकड़ कर पुलिस को सुपुर्द किया था लेकिन पुलिस ने बिना कार्रवाई किए ही अपराधियों को छोड़ दिया. लेकिन ग्रामीणों ने पुलिस थाने के आगे विरोध प्रदर्शन किया तो पुलिस ने आनन-फानन में दो आरोपियों को गिरफ्तार बता दिया. इस मामले के बाद ग्रामीणों ने पुलिस पर आरोपियों का बचाव करने का आरोप लगाते हुए कहा कि इस क्षेत्र में आशापुरा मंदिर, महादेव मंदिर, रामदेव मंदिर में हुई चोरियों का पुलिस खुलासा करने में नाकाम है. 

ग्रामीणों ने आरोपियों को पकड़ कर सौंपने के बावजूद महज एक खानापूर्ति करके आरोपियों को छोड़ दिया था. ऐसे में अब ग्रामीण पुलिस के आलाधिकारियों से झाब में कार्यरत स्टाफ को हटाने और आसपास के क्षेत्र में पुलिस की गश्त बढ़ाने, लूट के सभी आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. उसके बाद डीवाईएसपी ने समझाइश की, लेकिन ग्रामीण नहीं माने. झाब थाने के आगे ग्रामीणों के घेराव की जानकारी मिलने के बाद डीवाईएसपी नरेश शर्मा भी मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों से समझाइश के प्रयास किए, लेकिन ग्रामीण आरोपियों को बचाव करने वाले पुलिसकर्मियों को हटाने की मांग पर अड़े रहे.

जिसके बाद शर्मा को वापस जाना पड़ा. उसके बाद झाब से ग्रामीणों की गाड़ियां भरकर जालोर पुलिस अधीक्षक को मिलने के लिए पहुंची. जहां पर जिला प्रमुख बनेसिंह गोयल के नेतृत्व में पुलिस अधीक्षक हिम्मत अभिलाष टाक से वार्ता की और ग्रमीणों को बताया कि अलग से जांच कमेटी बिठाकर उचित कार्रवाई की जाएगी. किसी भी तरह आरोपियों को बख्शा नहीं जाएगा. इस धरने के दौरान राव सरवन सिंह बोरली, जेताराम देवासी, तेजाराम देवासी, मदरूप सिंह व अमर सिंह सहित ग्रामीण मौजूद रहे.