राजस्थान: पूर्व मंत्री के 10 साल से नहीं चुकाया पानी का बिल, विभाग ने काटा कनेक्शन

जेईएन अजीत सिंह यादव ने बताया कि मंत्री के इस होटल को कई बार नोटिस थमाकर चेतावनी दी गई, लेकिन एक बार भी चेतावनी को नहीं माना गया

राजस्थान: पूर्व मंत्री के 10 साल से नहीं चुकाया पानी का बिल, विभाग ने काटा कनेक्शन
एक बिल 1 लाख 82 हजार और दूसरा 1 लाख 28 हजार बाकी था

आशीष चौहान/जयपुर: जलदाय विभाग ने पूर्व मंत्री प्रभुलाल सैनी के होटल और रेस्टोरेंट पर र्कारवाई करते हुए 2 पानी के कनेक्शन काट दिए. मिली जानकारी के मुताबिक पानी का बिल जमा किए हुए पिछले 10 साल से ज्यादा का वक्त हो गया था. कई बार जेईएन ने नोटिस भी थमाए, लेकिन इसके बावजूद भी पानी का बिल नहीं चुकाया गया. दोनों बिल करीब 3 लाख से पास पहुंच गए थे, लेकिन इसके बावजूद भी होटल ने पानी का बिल जमा नहीं करवाया. इसके बाद मजबूरन जलदाय विभाग को कनेक्शन काटना पडा.

अजमेर रोड पर स्थित होटल स्पार्क की जमीन पूर्व मंत्री प्रभुलाल सैनी के नाम से है, जबकि होटल और रेस्टोरेंट को छोटेलाल यादव चलाता है. कई सालों से भुगतान नहीं मिलने के बाद जेईएन अजीत सिंह यादव ने होटल पहुंचकर कार्रवाई की. इसके अलावा अजीत सिंह ने 50 हजार रूपए से अधिक बिल नहीं चुकाने वाले 10 उपभोक्तओं के कनेक्शन भी काटे. बिलों की राशि करीब 3 लाख रूपए बताई जा रही है.

यानि जब तक सत्ता थी तब तक मंत्रीजी के होटल या रेस्टोरेंट पर कोई भी हाथ नहीं लगा पाया. सत्ता में रहते हुए वसुंधरा के इस मंत्री का पानी पर पावर चलता गया और जलदाय विभाग का एक भी अधिकारी मंत्री जी क होटल को छू नहीं पाया. मंत्री जी मुफ्त का पानी पीते रहे और जलदाय विभाग सरकार के दबाव के कारण कार्रवाई नहीं कर पाया, लेकिन मंत्री जी जैसे ही सत्ता से बाहर हुए तो जलदाय विभाग के अधिकारियों ने तुरंत कार्रवाई कर दी. प्रभुलाल सैनी वसुंधरा सरकार में कृषिमंत्री थे, लेकिन इसके बावजूद भी उनके होटल का बिल सालों से चुकता नहीं हो पाया.

जेईएन अजीत सिंह यादव ने बताया कि मंत्री के इस होटल को कई बार नोटिस थमाकर चेतावनी दी गई, लेकिन एक बार भी चेतावनी को नहीं माना गया. जिसके बाद में जलदाय विभाग को आखिरकार कार्रवाई करनी ही पडी. मंत्री के होटल पर दो कनेक्शन काटे गए, जिसमें एक बिल 1 लाख 82 हजार और दूसरा 1 लाख 28 हजार बाकी था. इसके अलावा विभाग की कार्रवाई फरवरी मार्च आते-आते तेज हो गई. अब ऐसे उपभोक्ताओं के और कनेक्शन काटे जाएंगे जिनका बिल 50 हजार रूपए तक पहुंच गया है और उन्होंने भुगतान नहीं किया.