कोटा: पानी की समस्या से मचा है हाहाकार, सरकार की योजनाओं की खुल रही पोल

चम्बल के किनारे बसे कोटा जिले के कई इलाको में पानी की कमी के कारण हाहाकार मचा हुआ है. जिससे सरकार की पेजयल योजनाओं की पोल खुल रही है.

कोटा: पानी की समस्या से मचा है हाहाकार, सरकार की योजनाओं की खुल रही पोल
ग्रामीणों को पानी लाने के लिए काफी दूर चलना पड़ता है. (प्रतीकात्मक फोटो)

कोटा: प्रदेश में पड़ रही भीषण गर्मी के कारण पानी के लिए लोग काफी परेशान है. चम्बल के किनारे बसे कोटा जिले के कई इलाको में पानी की कमी के कारण हाहाकार मचा हुआ है. जिससे सरकार की पेजयल योजनाओं की पोल खुल रही है.

कोटा जिले के लाडपुरा विधानसभा क्षेत्र में स्थित मण्डाना गांव में पेयजल योजना विफल होने के कारण ग्रामीण पीने के पानी के लिए टैंकर पर पूरी निर्भर हैं. लेकिन इसके लिए भी गांव वालों को टैंकर के आने का घंटों इंतजार करना पड़ता है. ऐसे में राज्य सरकार की पेयजल योजना का माखौल उड़ रहा है.

इसके अलावा ग्राम पंचायत मंडाना के वार्ड एक में मुकूंदपुरा ढाणी मे पेयजल योजना का वाटर बॉक्स लगा हुआ है. लेकिन फिर भी  गांव के लोग पानी की आपूर्ति के लिए टैंकर पर पूरी तरह निर्भर हैं.

स्थानीय ग्रामीणों का कहना है कि राजनीतिक दलों के नेता सिर्फ वादा करके निकल जाते हैं. जबकि गांव के लोगों को पेयजल की समस्या से जूझना पड़ता है. 

ग्राम पंचायत मंडाना के निवासियों का कहना है कि सरपंच से गुहार लगाने के बावजूद पानी की समस्या नहीं सुलझ गई पायी है. पानी की आपूर्ति करने वाला टैंकर भी नियमिक गांव में नहीं पहुंचता है. जिस कारण पानी लाने के लिए करीब 3 किलोमीटर दूर जाना पड़ता है.