राजस्थान: गुर्जर आंदोलन के दौरान उपद्रव के बाद 4 जगहों पर धारा 144 लागू

आंदोलन के कारण एहतियात के तौर पर राज्य में पुलिस सुरक्षा को बढ़ा दिया गया है. 

राजस्थान: गुर्जर आंदोलन के दौरान उपद्रव के बाद 4 जगहों पर धारा 144 लागू
गुर्जर समुदाय के लोग 5 % आरक्षण की मांग कर रहे हैं. (फाइल फोटो)

शरद पुरोहित, सवाई माधोपुर: राजस्थान में चल रहे गुर्जर आरक्षण आंदोलन के दौरान रविवार को धौलपुर में हुए उपद्रव के बाद एहतियात के तौर पर राज्य में पुलिस सुरक्षा को बढ़ा दिया गया है. पुलिस ने धौलपुर के अलावा करौली, हिण्डौन और मलारड़ना में धारा 144 लागू कर दी है. इसके अलावा इन जगहों पर सुरक्षा वयवस्था को ऐतिहातन बढ़ा दिया है. 

अधिकारियों सूत्रों के अनुसार रविवार को धौलपुर के अलावा राज्य के इन जिलों में हुए बवाल के बाद करौली, हिण्डौन और मलारड़ना में भी भारी पुलिस बल तैनात है. पूरे प्रकरण पर पुलिस के आला अधिकारी अपनी पैनी निगाहें बनाए हुए हैं. सवाई माधोपुर के पास स्थित मलारड़ना में धरना स्थल के पास भी धारा 144 लागू है. ताकि किसी भी अप्रिय घटना से बचा जा सके. वहीं, पूरे जिले में राज्य पुलिस ने एसटीएफ, आरपीएफ और एसडीआरएफ की कंपनियों को तैनात किया है. 

धौलपुर में नहीं हुई थी हवाई फायरिंग

वहीं, डीजी (लॉ और ऑर्डर) एमएम लाठर ने मीडिया को बताया कि पुलिसकर्मियों द्वारा धौलपुर में कोई भी हवाई फायरिंग नहीं की गई थी. पुलिस ने स्थिति बिगड़ने पर आंसू गैस के गोलें छोड़े थे. इस दौरान प्रदर्शनकारियों द्वारा किए गए पथराव में 4 से 5 पुलिसकर्मी घायल हो गए थे.

उन्होंने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने पुलिस की एक बस व दो गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया था. इस दौरान एक पुलिस चौकी पर भी पथराव किया और वहां मौजूद पुलिसकर्मियों से मारपीट कर चौकी में आग लगाने का प्रयास भी किया. धौलपुर में हुई घटना के बाद पुलिस और भी मुकदमे प्रदर्शनकारियों के खिलाफ दर्ज कर रही है.

धौलपुर के गुर्जर बहुल्य इलाकों में हो रही है विशेष निगरानी

इस संबंध में धौलपुर के एसपी अजय सिंह ने बताया कि फिलहाल पूरे जिले में धारा 144 लागू है. जिसके लिए जिला कलेक्टर नेहा गिरी ने आदेश जारी किया है. वहीं गुर्जर बाहुल्य क्षेत्रों में एसपी ने पुलिस विशेष निगरानी बनाए रखने का आदेश दिया है. 

आपको बता दें कि, आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर समाज के लोगों ने रविवार को हाईवे को जाम किया था. जिस दौरान पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच हुए विवाद के कारण उपद्रवियों ने पुलिस की तीन गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया था. उपद्रव के दौरान आंदोलनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया था. इस दौरान वहां मौजूद पुलिसकर्मियों को प्रदर्शनकारियों ने 1 किलोमीटर दूर तक खदेड़ा था. इस पथराव के दौरान कई पुलिसकर्मी चोटिल हुए थे. 

सोशल मीडिया पर वायरल हुई भड़काऊ वीडियो

गुर्जर आरक्षण आंदोलन को लेकर सोशल मीडिया पर कुछ भड़काऊ वीडियो वायरल हुई है. जिस पर पुलिस मुख्यालय मॉनिटरिंग कर रहा है. पुलिस के आला अधिकारियों ने सोशल मीडिया पर फैलाए जा रहे भड़काऊ वीडियो के झांसे में नहीं आने की अपील की गई है. साथ ही ऐसी वीडियो के बारे में पुलिस को सूचना देने की अपील की गई है.