Jaipur के लिए तीन पेयजल परियोजनाओं को मिली स्वीकृति, खत्म होगा जल संकट

जयपुर (Jaipur) में आज भी ऐसे कई प्रभावित इलाके हैं, जहां तक पीने का पानी नहीं पहुंच पाता है लेकिन सरकार अब लगातार पेयजल की समस्या खत्म करने के प्रयास कर रही है. 

Jaipur के लिए तीन पेयजल परियोजनाओं को मिली स्वीकृति, खत्म होगा जल संकट
प्रतीकात्मक तस्वीर.

Jaipur: जलदाय विभाग (Water supply department) ने जयपुर (Jaipur) शहर के लिए तीन परियोजनाओं को स्वीकृति दे दी है, जिसमें 30 करोड़ से ज्यादा की मंजूरी मिल गई है. 

यह भी पढ़ें- कोरोना संकट के बावजूद 3 लाख घरों तक पहुंचा पानी, इस साल लगेंगे 21 लाख नए कनेक्शन

आने वाली गर्मियों को देखते हुए पीएचईडी (PHED) लगातार प्रोजेक्ट्स की मंजूरी दे रही है. इन परियोजनाओं से जयपुर की जनता पेयजल की समस्या दूर होगी.

यह भी पढ़ें- र्मियों से पहले पेयजल स्कीम के लिए राजस्थान ने कसी कमर, बजट एक बार फिर बना रोड़ा

जयपुर (Jaipur) में आज भी ऐसे कई प्रभावित इलाके हैं, जहां तक पीने का पानी नहीं पहुंच पाता है लेकिन सरकार अब लगातार पेयजल की समस्या खत्म करने के प्रयास कर रही है. सरकार ने जयपुर शहर के लिए तीन पेयजल योजनाओं की स्वीकृति दे दी है. इन योजनाओं से जयसिंहपुरा खोर, नाई की थड़ी, श्याम नगर पश्चिम में पेयजल लाइन पहुंच सकेगी. इससे पहले इन इलाकों में पेयजल सप्लाई नहीं हो पा रही है लेकिन पीएचईडी विभाग ऐसे प्रभावित इलाकों में बीसलपुर (Bisalpur) का पानी पहुंचा रहा है, जहां पेयजल सप्लाई नहीं हो पाती. 

जलदाय विभाग की चीफ इंजीनियर सीएम चौहान (CM Chauhan) का कहना है कि सरकार ने बजट में इन परियोजनाओं की घोषणा की थी, जिसे अब जलदाय विभाग धरातल पर पूरा करने का प्रयास कर रहा है.

इन पेयजल परियोजनाओं की स्वीकृति
सरकार ने जयसिंहपुरा, खोर और नाई की थड़ी में शहरी जल प्रदाय योजनाओं के पुनर्गठन के लिए 30 करोड़ की प्रशासनिक और वित्तीय स्वीकृति जारी करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई. जयपुर शहर में ही श्याम नगर पश्चिमी क्षेत्र में नई पाइप लाइन बिछाने और जोड़ने, पुरानी और दूषित पाइपलाइनों को बदलने के लिए 4 करोड़ 81 और हिम्मत नगर क्षेत्र में वसुंधरा कॉलोनी और आसपास के क्षेत्रों में जलापूर्ति के प्रेशर में वृद्धि के लिए 2 करोड़ 52 लाख के पाइप लाइन जोड़ने और बिछाने के कार्यों की मंजूरी भी दी गई है.

कब धरातल पर उतरेंगी योजनाएं
ऐसे में इन प्रभावित इलाकों के लोगों को सरकार से उम्मीदें बढ़ गई हैं लेकिन सवाल ये है कि जलदाय विभाग के इंजीनियर्स कितने समय में इन योजनाओं को धरातल पर उतार पाते हैं?