धौलपुर: भामाशाह बनकर गरीबों को कपड़े बांट रही पुलिस, मानवता का दे रही परिचय

पुलिस ने सकारात्मक पहल का परिचय देते हुए समाज के गरीब असहाय एवं जरूरतमंद लोगों को ऊनी कपड़े वितरित किये हैं, जो पुलिस का समाज के प्रति नया चेहरा दिखाई दे रहा है.

धौलपुर: भामाशाह बनकर गरीबों को कपड़े बांट रही पुलिस, मानवता का दे रही परिचय
जिले की पुलिस ने जयपुर पुलिस मुख्यालय के निर्देश पर नवाचार की शुरुआत की है.

भानू, धौलपुर: जिले में इस सीजन में कड़ाके की सर्दी ने पिछले 100 वर्ष का रिकॉर्ड तोड़ा है. पिछले दो दिनों में जिले का न्यूनतम तापमान एक डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है. जिससे आमजन का जनजीवन भारी प्रभावित हुआ है. 

कड़ाके की सर्दी को देखते हुए जिले की पुलिस ने जयपुर पुलिस मुख्यालय के निर्देश पर नवाचार की शुरुआत की है. पुलिस ने सकारात्मक पहल का परिचय देते हुए समाज के गरीब असहाय एवं जरूरतमंद लोगों को ऊनी कपड़े वितरित किये हैं, जो पुलिस का समाज के प्रति नया चेहरा दिखाई दे रहा है. जिले के सभी पुलिस थानों में एसपी की मौजूदगी में गर्म वस्त्र जरूरतमंदों को दिए जा रहे है. 

गौरतलब है कि राजस्थान प्रदेश की पुलिस ने डीजीपी के निर्देश में नवाचार की शुरुआत की है. नए नवाचार में पुलिस का समाज के प्रति सकारात्मक रूप देखा जा रहा है. जो शायद ही पहले कभी रहा हो. कड़ाके की सर्दी के इस सीजन में जिला पुलिस थाना प्रांगण में निजी स्तर पर भामाशाह बनकर गरीब जरूरतमंद एवं असहाय लोगों ऊनी कपड़े वितरित कर रही है. मंगलवार को पुलिस के नवाचार कार्यक्रम का आगाज सैपऊ उपखंड मुख्यालय के थाने से किया गया. 

नीय पुलिस ने गरीब और जरूरतमंद लोगों को चिन्हित कर पुलिस थाने के प्रांगण में बुलाया गया, जहां सभी कप स्वल्पहार काऱया गया. पुलिस ने निजी स्तर पर भामाशाह बनकर बच्चे महिलाएं एवं बुजुर्गों को ऊनी कपड़े, स्वेटर, टोपी, कंबल रजाई आदि दिए गए. पुलिस के इस कार्यक्रम में लोगों का हुजूम देखा गया. पुलिस अधीक्षक मृदुल कच्छावा ने जानकारी देते हुए बताया कि राजस्थान पुलिस के डीजीपी के निर्देश में नवाचार की शुरुआत की गई है, जिसमें पुलिस निजी स्तर पर खर्च कर समाज के गरीब दीनहीन एवं जरुरतमंद लोगों को ऊनी वस्त्र दिए जा रहे हैं. 

इस साल धौलपुर जिले में सबसे अधिक सर्दी का असर देखा गया है. कड़ाके की सर्दी ने आमजन के साथ पशु पक्षी एवं वन्यजीवों को भी भारी परेशान किया है. पिछले सौ साल के अंतराल में मौजूदा सर्दी का सीजन सबसे अधिक रहा है. जिले में लगातार तापमान में गिरावट आने से पारा न्यूनतम 1 डिग्री सेल्सियस पिछले दो दिनों का देखा गया है, जिसने आमजन को झकझोर दिया है.