राजस्थान सरकार ने एक साल में किसानों के लिए क्या किया, जानिए कृषि मंत्री से...

कृषि मंत्री के तौर पर लालचंद कटारिया का मानना है कि राजस्थान का किसान प्रगतिशील बने इसके लिए विभिन्न योजनाओं का काम चल रहा है.

राजस्थान सरकार ने एक साल में किसानों के लिए क्या किया, जानिए कृषि मंत्री से...
लालचंद कटारिया झोटवाड़ा विधानसभा क्षेत्र से विधायक और वर्तमान में कृषि मंत्री हैं.

जयपुर: किसान नेता के तौर पर राजस्थान में लालचंद कटारिया की एक खास पहचान है. झोटवाड़ा विधानसभा क्षेत्र से विधायक और वर्तमान में कृषि मंत्री लालचंद कटारिया, अशोक गहलोत के बेहद खास नेता के तौर पर जाने जाते हैं. कटारिया राजस्थान विधानसभा के सदस्य रह चुके हैं. इस दौरान आप अन्य पिछड़ा वर्ग समिति के राजस्थान विधानसभा के सदस्य भी रह चुके हैं. वर्ष 2009 में लोकसभा सांसद बने. झोटवाड़ा विधानसभा से विधायक भी रह चुके हैं. भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय में मंत्री और रक्षा राज्य मंत्री भी रहे हैं. वर्तमान में पन्द्रहवीं विधानसभा के लिए झोटवाड़ा (जयपुर) निर्वाचन क्षेत्र से निर्वाचित हुए हैं. 

वहीं, ठेठ देसी मिजाज और लोगों के बीच उपलब्ध रहने वाले लालचंद कटारिया का मानना है कि 1 साल में उन्होंने कोशिश की है कि अपने क्षेत्र की वर्षों पुरानी समस्याओं के समाधान के साथ-साथ राजस्थान के किसान वर्ग के हितों के लिए कई जरूरी कदम उठाए जाएं झोटवाड़ा विधानसभा क्षेत्र जिसका बड़ा क्षेत्र जयपुर ग्रामीण में आता है. लंबे समय से पेयजल सड़क बसों की सुविधाओं से महरूम था. इस एक साल में पृथ्वीराज नगर सहित कई कॉलोनियों में सड़कों की सुविधाएं उपलब्ध करवाई है. 

कृषि मंत्री के तौर पर लालचंद कटारिया का मानना है कि राजस्थान का किसान प्रगतिशील बने इसके लिए विभिन्न योजनाओं का काम चल रहा है. बड़ी तादाद में किसान सेवा केंद्र खोले गए हैं. जयपुर में आयोजित किसान सम्मेलन में किसानों को नवीन तकनीक के बारे में जानकारी दी गई. किसानों की कर्ज माफी को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जो वादा किया था वह पूरा हुआ है. लालचंद कटारिया मानते हैं कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जो निरोगी राजस्थान अभियान शुरू किया है, उसका बड़ा लाभ ग्रामीण क्षेत्र को मिलेगा. इस मुहिम के जरिए राजस्थान के नागरिकों को स्वस्थ बनाने की दिशा में बड़ा कदम उठाया गया है. लालचंद कटारिया इस बात से संतुष्ट है कि इस बार बरसात अच्छी होने की वजह से किसानों को बेहतर फसल मिली. हालांकि, कुछ जिलों में अतिवृष्टि के चलते जो नुकसान हुआ सरकार उसकी भरपाई के लिए जरूरी कदम उठा रही है. 

राजस्थान के पश्चिम क्षेत्र के कई जिलों में टिड्डी दल का प्रकोप चिंता का सबब बना हुआ है. इसके लिए लालचंद कटारिया ने मुख्यमंत्री अशोक के निर्देशों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर केंद्र से अतिरिक्त संसाधन देने की मांग की है. लालचंद कटारिया ने कहा है कि टिड्डी दल आमतौर पर सर्दी शुरू होने से पहले खत्म हो जाता है, लेकिन इस बार उसका प्रकोप जारी है. जिस तरह से गुजरात के नेता इस मुद्दे को लेकर राजनीति कर रहे हैं, वह गलत है. राज्य सरकार ने अपने स्तर पर गंभीर प्रयास किए हैं, लेकिन इसके बावजूद इस बात पर को बेहद गंभीर है और इसकी रोकथाम के लिए केंद्र सरकार से अतिरिक्त संसाधनों की आवश्यकता है.

लालचंद कटारिया का मानना है कि सरकार ने 1 साल में सभी वर्गों के लिए विभिन्न योजनाएं चलाई है. जिसका लाभ उन्हें पहले उपचुनाव फिर निकाय चुनाव और पंचायत चुनाव में मिलेगा सरकार ने अपने घोषणा पत्र को सरकारी दस्तावेज बनाया है. राजस्थान के सभी महकमों को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देश हैं कि समय पर तरीके से इन घोषणाओं का लाभ मिलना चाहिए. लालचंद कटारिया का मानना था कि पंचायत चुनाव से पहले सरपंच का चुनाव लड़ने में दो बच्चों से अधिक की बाध्यता को लेकर उम्मीद थी कि से खत्म किया जाएगा, लेकिन किन्हीं कारणों से नहीं हो पाया है. लालचंद कटारिया पंचायत चुनाव को लेकर बेहद आशावादी नजर आते हैं. कटारिया का मानना है कि ग्रामीण क्षेत्रों में कांग्रेस हमेशा से मजबूत रही है और उम्मीद के मुताबिक ही परिणाम रहेंगे.

साथ ही उनका कहना है कि देश में जिस तरीके से एनआरसी सीए और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर को लेकर माहौल बना है, वह असल मुद्दों से ध्यान भटकाने की कोशिश है. जीडीपी को लेकर आर्थिक मुद्दों को लेकर रोजगार को लेकर महंगाई को लेकर बात नहीं हो रही. इन सब मुद्दों पर बात होनी चाहिए देश में भाजपा का असली चेहरा सबके सामने आने लगा है. महाराष्ट्र और झारखंड के चुनाव परिणाम बता रही हैं कि नरेंद्र मोदी और अमित शाह का ग्राफ गिरने लगा है.

लालचंद कटारिया का मानना है कि राहुल गांधी भले ही अध्यक्ष पद पर नहीं है लेकिन अभी भी कांग्रेस के सबसे कद्दावर नेता है. कांग्रेस के संगठन को मजबूत बनाने के लिए राहुल गांधी हमेशा प्रयासरत हैं. आज भी सभी चुनावों में कांग्रेस की सभी बैठकों में राहुल गांधी की बात की सबसे प्रमुख तौर पर सुनी जाती है. उनको पार्टी अध्यक्ष बनाने के सवाल पर लालचंद कटारिया ने कहा यह पार्टी के बड़े नेताओं को तय करना है.

झोटवाड़ा विधानसभा क्षेत्र के विभिन्न वर्गों के लोग लालचंद कटारिया के कामकाज से संतुष्ट नजर आते हैं. कई मुद्दे ऐसे हैं जिन पर नागरिकों को लगता है कि अभी काम किया जाना बाकी है खासतौर पर पेयजल के मुद्दे को लेकर नागरिकों का कहना है कि बीसलपुर परियोजना का बड़ा लाभ क्षेत्र को नहीं मिल पा रहा इस दिशा में कोशिश की जानी चाहिए. इसके अलावा हाईटेंशन लाइन को लेकर कई बार प्रस्ताव तैयार हुए हैं लेकिन समाधान नहीं हो पाया है. इससे दुर्घटना उनकी आशंका बनी रहती है झोटवाड़ा विधानसभा क्षेत्र के ग्रामीण इलाकों में अभी भी सड़कों की स्थिति बेहतर की जानी चाहिए इसके अलावा परिवहन के साधनों की दिशा में भी काम किया जाना बाकी है.