सिंगापुर से दिल्ली लाया गया अमर सिंह का पार्थिव शरीर, आज होगा अंतिम संस्कार

64 साल के अमर सिंह का सिंगापुर में उपचार के दौरान शनिवार को निधन हो गया था.

सिंगापुर से दिल्ली लाया गया अमर सिंह का पार्थिव शरीर, आज होगा अंतिम संस्कार

नई दिल्ली:  राज्यसभा सांसद अमर सिंह का पार्थिव शरीर सिंगापुर से दिल्ली लाया गया है. अमर सिंह का आज दोपहर बाद अंतिम संस्कार होगा. 64 साल के अमर सिंह का सिंगापुर में उपचार के दौरान शनिवार को निधन हो गया था जहां वह किडनी संबंधी बीमारियों का उपचार करा रहे थे. अमर सिंह का पार्थिव शरीर दिल्ली स्थित उनके घर छतरपुर लाया गया. उनके पार्थिव शरीर को एंबुलेंस में एयरपोर्ट से यहां तक लाया गया. राज्य सभा सांसद सुभाष चंद्रा उनके पार्थिव शरीर को एयरपोर्ट से  घर तक एंबुलेंस में लेकर आए. यहां शिवपाल यादव भी पहुंचे.

बता दें कि पिछले काफी दिनों से अमर सिंह बीमार चल रहे थे. उन्होंने किडनी ट्रांसप्लांट कराया था जिसका इलाज वो सिंगापुर में करा रहे थे. मार्च महीने से वो लगातार बीमार थे. उसी वक्त कुछ लोगों ने उनकी मौत की अफवाह उड़ाई तो अमर सिंह ने बेबाक अंदाज में उस वक्त लोगों को जवाब भी दिया था.

'संकटमोचन' अमर सिंह
अमर सिंह राजनीतिक गलियारों में एक ऐसा नाम थे जिन्हें दोस्तों का दोस्त और संकटमोचक कहा जाता था. उन्होंने मुश्किल वक्त में गिरती हुआ सरकार और लड़खड़ाते दोस्तों को भी संभाला था. अमर सिंह को 2008 में कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए 1 सरकार बचाने के लिए हमेशा याद किया जाएगा. उस समय समाजवादी पार्टी से राज्य सभा सांसद अमर सिंह के कारण ही यूपीए सरकार गिरने से बच गई थी.

अमर सिंह ने अपने पिता की याद में आजमगढ़ स्थित अपनी पैतृक संपत्ति आरएसएस से जुड़ी संस्था 'सेवा भारती संस्थान' को दान कर दी थी. उनके पिता की मौत के बाद यह घर खाली था. 2018 में अमर सिंह ने कहा था- ‘संघ बड़ी संस्था है. उसे कुछ दान देना बहुत छोटी बात होगी.'

amar singh

बात कहने की बेबाक शैली
बात कहने की बेबाक शैली, खुलकर बात रखने की आदत और सड़क से संसद तक बुलंद आवाज में अपनी बात रखने वाला ये नेता अमर सिंह सियासत के साथ-साथ सिनेमा में भी बराबरी का दखल रखते थे.

बॉलीवुड के बड़े सितारों से दोस्ती, हर पार्टी में अपने संबंधों, राजनीतिक समझ और उद्योगपतियों से अच्छे रिश्ते और हर काम करा लेने की कला अमर सिंह में थी.  2018 में लखनऊ में हुए इन्वेस्टर्स समिट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी राजनेताओं और उद्योगपतियों के संबंधों पर बोलते हुए अमर सिंह का जिक्र किया था.

जैसे हर राजनीतिक दल में उनके दोस्त थे, ठीक वैसे ही फिल्म इंडस्ट्री का शायद ही कोई बड़ा कलाकार हो जो उनका दोस्त न रहा हो.

अमिताभ ने किया ट्वीट
अमिताभ बच्चन के परिवार से भी अमर के बेहद करीबी रिश्ते रहे थे. हर छोटे बड़े मौके पर अमर सिंह अमिताभ बच्चन के साथ खड़े नजर आते थे. लेकिन पिछले कुछ सालों में अमिताभ और अमर के रिश्तों में खटास जरूर आई थी. इस साल फरवरी में अमर सिंह ने एक वीडियो जारी करके अमिताभ से माफी भी मांगी भी थी.

अमर सिंह के निधन पर अमिताभ बच्चन ने ब्लॉग में लिखा और ट्विटर पर एक तस्वीर भी साझा की.

अ​मिताभ ने लिखा, 'दुख भर गया है, सिर झुक गया है, केवल प्रार्थनाएं बची हैं. बेहद करीबी शख्सियत, बेहद करीब रहने वाला रिश्ता, वो महान आत्मा नहीं रही.'

कॉर्पोरेट की दुनिया से लेकर सिनेमा और सियासत तक संकटमोचन, दोस्तों के दोस्त और बेबाक बयानों के लिए अमर सिंह को लंबे वक्त तक याद रखा जाएगा.

ये भी देखें-