close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: फर्जी कॉल सेंटर से विदेशियों को ठगने के मामले में पुलिस ने किया बड़ा खुलासा...

जांच में पता चला है कि गिरोह के चार सदस्य इंजीनियर हैं, जबकि अन्य लोग स्नातक और 10वीं पास हैं. ये सभी अंग्रेजी बोलने व समझने में भी माहिर हैं.

जयपुर: फर्जी कॉल सेंटर से विदेशियों को ठगने के मामले में पुलिस ने किया बड़ा खुलासा...
पुलिस ने कहा कि गिरोह ने दिल्ली और मुंबई स्थित एजेंटों से संभावित ग्राहकों का डेटा खरीदा.

जयपुर: राजस्थान पुलिस ने यहां एक फर्जी कॉल सेंटर गिरोह का भंडाफोड़ करते हुए 24 लोगों को गिरफ्तार किया है. गिरोह में शामिल लोगों ने अमेरिका, हांगकांग, चीन और अन्य देशों में हजारों लोगों को ठगा है. यह रैकेट पहले सस्ता लोन दिलाने के बहाने ग्राहकों को लालच देता था और फिर उन्हें कर और ब्याज का भुगतान नहीं करने की धमकी दी जाती थी.

पुलिस ने आरोपियों के पास से 26.47 लाख रुपये नकद, लैपटॉप, मोबाइल और अन्य उपकरण बरामद किए हैं. शहर में दो स्थानों पर कॉल सेंटर चलाए जा रहे थे. इंद्रप्रकाश कॉलोनी में मंदीप सिंह और जवाहर सर्कल पर वैभव पारीक द्वारा कॉल सेंटर संचालित किए जा रहे थे. मनदीप फिलहाल फरार है.

जांच में पता चला है कि गिरोह के चार सदस्य इंजीनियर हैं, जबकि अन्य लोग स्नातक और 10वीं पास हैं. ये सभी अंग्रेजी बोलने व समझने में भी माहिर हैं. आरोपियों ने कबूल किया है कि कॉल सेंटर ज्वाइन करने से पहले उन्होंने अंग्रेजी भाषा भी सीखी थी.

पुलिस ने कहा कि गिरोह ने दिल्ली और मुंबई स्थित एजेंटों से संभावित ग्राहकों का डेटा खरीदा. गिरोह ने विदेशियों को फांसने के लिए इंटरनेट का प्रयोग किया. ये लोग अपनी अच्छी अंग्रेजी और बातचीत करने के तरीके से ग्राहकों को लुभाते थे.

पुलिस के अनुसार, अपराधी अक्सर अमेरिकी नागरिकों को निशाना बनाते थे, क्योंकि उनके द्वारा मामला दर्ज कराने की संभावना कम थी. गिरफ्तार किए गए लोग राजस्थान, गुजरात और उत्तर प्रदेश के हैं. पुलिस आरोपियों के बैंक खातों और विदेशी कनेक्शनों की जांच कर रही है.