प्रेमिका शादी को तैयार नहीं हुई तो उसके पत‍ि को आतंकी साब‍ित करने के लिए रची ऐसी साजिश

गुस्साए प्रेमी ने प्रेमिका के पति को आतंकी ठहराकर उसे सबक सिखाने का प्‍लान बनाया था, लेकिन पुल‍िस जांच में मामला कुछ और ही नि‍कला.

प्रेमिका शादी को तैयार नहीं हुई तो उसके पत‍ि को आतंकी साब‍ित करने के लिए रची ऐसी साजिश

मयूर निकम, मुंबई: मुंबई के लोकमान्य तिलक टर्मिनल में शालीमार एक्सप्रेस में मिले विस्फोटक मामले मे महाराष्ट्र एटीएस ने बुलडाणा जिले सें एक शख्स को गिरफ्तार किया है. इसमें मामले में कोई आतंकी एंगल नहीं मिला है. निजी दुश्मनी पर की बात सामने आई है. बुलडाणा जिले नांदुरा खुर्ज के अनंत वानखेडे एक युवती का साथ प्रेम संबंध में था. दोनों की शादी नहीं हो सकी. युवती ने परिवार के कहने पर दूसरे लड़के से शादी की. शादी के तीन साल बाद भी अनंत लड़की को अपने पति से तलाक लेने के लिए दबाव डालता रहा. उसके पति को दोनों के अश्लील वीडि‍यो भी भेज दिए. फोटो भी शेयर कि‍ए. लेकिन इसके बावजूद लड़की ने तलाक नहीं लिया. पति के साथ रहने की बात वह कहती रही. पति ने भी उसका साथ दिया. प्रेमिका ने अनंत से कहा मैं अपने पति को नहीं छोड़ सकती.

इसी से गुस्साए प्रेमी ने प्रेमिका के पति को आतंकी ठहराकर उसे सबक सिखाने का प्‍लान बनाया. उसने मुंबई के लोकमान्य तिलक टर्मिनस में खड़ी शालीमार एक्सप्रेस में पटाखे और वायर रखी. बम जैसी चीज रखने का सीन क्रियेट किया. धमकी भरा पत्र लिखकर उस प्रेमिका के पति का मोबाईल नंबर लिख दिया. तिलक नगर पुलिस थाने के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक सुरेश कांबले ने जांच शुरू की.

पुलिस ने नंबर पर संपर्क किया. पुलिस प्रेमिका के पति तक पहुंची तो सारा मामला सामने आया. आरोपी अनंत वानखेडे मुंबई के विक्रोली इलाके में रहता है. महाराष्ट्र एटीएस ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए उसे गिरफ्तार किया है. आरोपी को बुलडाणा से लेकर मुंबई लाया जाएगा.

स्‍टेशन पर मची थी अफरातफरी
मुंबई के लोकमान्य तिलक टर्मिनस के पास उस वक्त अफरातफरी मच गई जब सुबह 8:10 पर शालीमार एक्सप्रेस यार्ड में पहुंची. जांच के दौरान विस्फोटक पदार्थ पाया गया. यह विस्फोटक पदार्थ कुछ वायर और बैटरी के साथ पाया गया. हालांकि इसे विस्फोट करने के लिए घटनास्थल पर कोई डेटोनेटर मौजूद नहीं था. इस पदार्थ के डेटोनेटर या आग के संपर्क में आने से बड़ा धमाका हो सकता था. घटनास्थल पर पहुंची जांच एजेंसियों ने सबसे पहले लोकमान्य तिलक टर्मिनस को कुछ समय के लिए खाली कराया. विस्फोटक डिवाइस को डिफ्यूज किया गया.