close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महाराष्ट्रः बारिश के चलते सड़कों पर भरा पानी, अनहोनी की आशंका से मुंबई-गोवा हाईवे बंद

रत्नागिरी के उत्तरी इलाके में इन दिनों भारी बारिश हो रही है, जिसके चलते परशुराम घाट के पास लैंड स्लाईडिंग का मामला सामने आया है और खेड़ जगबूढ़ी और चिपलून के वशिष्ठी इलाके में बाढ़ भी आ गई है.

महाराष्ट्रः बारिश के चलते सड़कों पर भरा पानी, अनहोनी की आशंका से मुंबई-गोवा हाईवे बंद
रत्नागिरी के उत्तरी इलाके में भारी बारिश हो रही है. (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः महाराष्ट्र के कई इलाकों में लगातार हो रही बारिश पहले ही काफी कहर बरसा चुकी है. ऐसे में अब लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए मुंबई-गोवा महामार्ग को बंद कर दिया गया है. दरअसल, मुंबई-गोवा हाईवे के बीच में ही रत्नागिरी भी पड़ता है. वहीं रत्नागिरी के उत्तरी इलाके में इन दिनों भारी बारिश हो रही है, जिसके चलते परशुराम घाट के पास लैंड स्लाईडिंग का मामला सामने आया है और खेड़ जगबूढ़ी और चिपलूण के वशिष्ठी इलाके में बाढ़ भी आ गई है, जिसके चलते सुरक्षा के मद्देनजर मुंबई-गोवा हाईवे को बंद रखा गया है. 

बता दें इससे पहले भी रत्नागिरी में भारी बारिश के चलते काफी नुकसान हुआ था. 2 जून को यहां बारिश के बाद तवरे डैम टूट गया था, जिससे डैम के नीचे बसे 7 गांवों में पानी भर गया था, जिससे पूरे गांवों में बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए थे. बांध टूटने से करीब 24 लोगों की जान चली गई थी. वहीं गांवों मं बहुत ज्यादा पानी आ जाने से 20 से भी अधिक लोग बह गए थे, जिनके शव बरामद करने में आपदा विभाग को काफी दिक्कत हुई थी.

महाराष्‍ट्र: मंत्री ने बांध टूटने के लिए केंकड़ों को बताया जिम्‍मेदार तो NCP ने कहा-दर्ज करो मुकद्मा

वहीं डैम के पास बने कुछ घर तो पानी के साथ पूरी तरह बह गए थे, अंदेशा था कि जो लोग पानी के साथ बहे हैं, उनमें इन्हीं घरों के लोग शामिल थे. घटना की जानकारी मिलने के बाद जिला प्रशासन ने राहत बचाव कार्य शुरू किया और एनडीआरएफ की टीम को राहत बचाव का कार्य सौंपा गया. बता दें इससे पहले 2016 में मुंबई-गोवा पर स्थित पुल बह गया था, जिसमें कई लोगों की मौत हो गई थी तो कई लोग लापता हो गए थे. जिसके चलते इस बार विशेष सावधानी बरती जा रही है.