close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: मायावती के बयान पर बोले अशोक गहलोत, कहा- हम नहीं करते कोई हॉर्स ट्रेडिंग

अशोक गहलोत ने कहा कि विचारधारा के तौर पर केंद्र में जब भी जरूरत हुई कांग्रेस पार्टी मायावती के साथ खड़ी दिखाई दी है. 

राजस्थान: मायावती के बयान पर बोले अशोक गहलोत, कहा- हम नहीं करते कोई हॉर्स ट्रेडिंग
फाइल फोटो

जयपुर: बसपा सुप्रीमो मायावती के ट्वीट पर अशोक गहलोत ने कहा कि, मैं मायावती की मनो स्थिति को समझ सकता हूं. उनका जो रिएक्शन आया है वह स्वाभाविक है लेकिन मायावती को सोचना चाहिए कि राजस्थान में उनकी पार्टी की सरकार नहीं है न ही बनने की कोई संभावना है. बसपा विधायकों पर क्षेत्र के लोगों का काम कराने का दबाव था. उनको सरकार ने इसी तरह का प्रलोभन या दवाब नहीं दिया बल्कि वो अपनी मर्जी से कांग्रेस में शामिल हुए हैं. 

अशोक गहलोत ने कहा कि विचारधारा के तौर पर केंद्र में जब भी जरूरत हुई कांग्रेस पार्टी मायावती के साथ खड़ी दिखाई दी है. एक समय ऐसा भी था जब काशीराम जी के जमाने में कांग्रेस ने यूपी में जूनियर पार्टी बनना भी स्वीकार किया था. ऐसे में मायावती को अब बड़ा दिल रखना चाहिए.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि कांग्रेस ने कभी भी अपने उसूलों से समझौता नहीं किया है. कभी भी हॉर्स ट्रेडिंग जैसा कदम नहीं उठाया है. कर्नाटक में भाजपा ने पैसे के दम पर हमारी सरकार गिरा दी और मध्यप्रदेश में भी 15 से लेकर 25 करोड़ तक का ऑफर कांग्रेसी विधायकों को दिया जा रहा है लेकिन सवाल यह है कि यह पैसा कहां से आ रहा है. देश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सारे नियम कायदे बदल दिए हैं. 

खुद को और खुद की पार्टी को ही राष्ट्रवादी बता रहे हैं. नरेंद्र मोदी ने चुनाव में सेना के नाम पर कैंपेन किया. हिंदुत्व के नाम पर कैंपेन किया. राष्ट्रवाद के नाम पर वोट मांगे. डर के मारे सब के मुंह पर ताले लगे हुए हैं. कुछेक लोगों को छोड़कर कोई विरोध कर नहीं कर रहा. भाजपा ने देश में भारत-पाकिस्तान बना दिया है. हिंदू मुस्लिम बना दिया है. देश में चिंता की स्थिति बनी हुई है. इसे देश की जनता को समझना होगा.

बसपा विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने के कदम से निकाय चुनाव में इसके असर के सवाल पर अशोक गहलोत ने कहा कि सब कुछ जनता के मूड पर निर्भर करता है. जिस तरह से केंद्र सरकार की विफलताओं को जनता समझ रही है उसके परिणाम बेहतर मिलेंगे.