श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ ट्रस्ट ने 'टाइम कैप्सूल' की खबरों का खंडन किया

 श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ ट्रस्ट ने 'टाइम कैप्सूल' की खबरों का खंडन किया है. ट्रस्ट के महामंत्री चंपत राय ने टाइम कैप्सूल की खबरों को मनगढंत बताया है. 

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ ट्रस्ट ने 'टाइम कैप्सूल' की खबरों का खंडन किया
Play

अयोध्या: श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ ट्रस्ट ने 'टाइम कैप्सूल' की खबरों का खंडन किया है. ट्रस्ट के महामंत्री चंपत राय ने टाइम कैप्सूल की खबरों को मनगढंत बताया है. उन्होंने कहा कि जो खबर ट्रस्ट के माध्यम से आए उस पर ही विश्वास करें, काल्पनिक बातों पर नहीं. ZEE NEWS ने पहले ही टाइम कैप्सूल की खबर को गलत बताया था. दरअसल, राम मंदिर की नींव में ताम्रपत्र रखा जाएगा, जिसमें मंदिर संबंधित पूरी जानकारी होगी लेकिन इसे टाइम कैप्सूल नहीं कहना चाहिए. खासतौर पर राम मंदिर निर्माण के संबंध में. 

सही खबर है कि राम मंदिर के भूमि पूजन के लिए ताम्रपत्र तैयार कराया जा रहा है. ताम्रपत्र पर संस्कृत भाषा में राम मंदिर से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी लिखी होगी. ताम्रपत्र पर मंदिर का नाम, स्थान, नक्षत्र, समय लिखा होगा, जिसे नींव में रखा जाएगा. सभी प्रमुख तीर्थ स्थलों की मिट्टी और नदियों के जल से भूमि पूजन किया जाएगा. राम मंदिर में परिसर में 2 परिक्रमा केंद्र भी बनाए जाएंगे. पहली परिक्रमा गर्भगृह की होगी और दूसरी परिक्रमा राम मंदिर की होगी. 

15 फीट गहरी होगी राम मंदिर की नींव 
राम मंदिर की नींव 15 फीट गहरी होगी. राम मंदिर की नींव में 8 लेयर होंगे. 2-2 फीट की एक लेयर होगी. नींव का प्लेटफॉर्म तैयार करने में कंक्रीट, मोरंग का इस्तेमाल होगा. सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि राम मंदिर में लोहे का इस्तेमाल नहीं होगा. भूतल मिलाकर राम मंदिर तीन मंजिल का होगा. भूतल, प्रथम तल और द्वितीय तल. 

अयोध्या को सजाने-संवारने का काम तेज
श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन से पहले अयोध्या को सजाने-संवारने का काम तेज हो गया है. 500 करोड़ रुपये की परियोजना से अयोध्या का विकास होगा. भूमि पूजन के दिन 326 करोड़ की परियोजनाओं का शिलान्यास किया जाएगा. 

राम मंदिर 10 एकड़ में बनेगा
नए मॉडल के मुताबिक राम मंदिर 10 एकड़ में बनेगा. शेष 57 एकड़ को राम मंदिर परिसर के तौर पर विकसित किया जाएगा. राम मंदिर परिसर में नक्षत्र वाटिका बनाई जाएगी, 27 नक्षत्र के वृक्ष लगाए जाएंगे. नक्षत्र वाटिका का बनाने का मकसद है कि अपने अपने जन्मदिन पर लोग अपने नक्षत्र के हिसाब से पेड़ के नीचे बैठकर ध्यान लगा सकें और राम मंदिर परिसर में पूजा अर्चना कर सकें. राम मंदिर परिसर में बाल्मीकि रामायण में वर्णित वृक्षों को भी लगाया जाएगा और इनका नाम भी बाल्मीकि रामायण के आधार पर ही रखा जाएगा.

शेषावतार मंदिर की अस्थाई स्थापना राम मंदिर के भूमि पूजन के बाद की जाएगी. राम मंदिर निर्माण पूरा होने के बाद राम मंदिर परिसर में स्थाई तौर पर शेषावतार मंदिर बनेगा. राम मंदिर में परिसर में रामकथा कुंज पार्क भी बनेगा जो भगवान राम के जीवन चरित्र पर आधारित होगा. राम मंदिर परिसर में खुदाई के दौरान मिले अवशेषों का संग्रहालय भी बनाया जाएगा. 

VIDEO

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.