close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान के खींवसर और मंडावा विधानसभा सीट पर कल है वोटिंग, 12 उम्मीदवार मैदान में

राजस्थान(Rajasthan) की दो सीटों खींवसर(Khinwsar) और मंडावा(Mandawa) में 21 अक्टूबर को उपचुनाव(By Election) होने हैं.

राजस्थान के खींवसर और मंडावा विधानसभा सीट पर कल है वोटिंग, 12 उम्मीदवार मैदान में
प्रदेश के 2 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने जा रहे हैं. (प्रतीकात्मक फोटो)

जयपुर: राजस्थान(Rajasthan) की दो सीटों खींवसर(Khinwsar) और मंडावा(Mandawa) में 21 अक्टूबर को उपचुनाव(By Election) होने हैं. दोनों सीटों पर 12 प्रत्याशी चुनावी मैदान में है. जहां सीधा मुकाबला भाजपा-कांग्रेस के बीच है. वोटिंग के लिए राज्य निर्वाचन विभाग ने अपनी तैयारियां पूरी कर ली हैं.

प्रदेश की खींवसर और मंडावा विधानासभा सीट पर 21 अक्टूबर को वोटिंग होनी है. राज्य मुख्य निर्वाचन विभाग ने उप चुनाव को लेकर तैयारियां पूरी कर ली हैं. मतदान सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक होगा. अगर बात झुंझुनूं की मंडावा विधानसभा की करें तो कुल 2,27,414 मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे. इनमें से 1,17,742 पुरुष और 1,09,672 महिला मतदाता हैं. मंडावा विधानसभा क्षेत्र में 2970 सेवा नियोजित मतदाता भी हैं, जिन्हें इलेक्ट्रोनिकली मतपत्र पहले ही भेज दिए गए हैं. विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र मंडावा में कुल 259 मतदान केन्द्र हैं. यहां पर शत-प्रतिशत मतदाताओं को मतदाता फोटो पहचान पत्र तैयार कर उपलब्ध कराए जा चुके हैं.

वहीं अगर बात झुंझुनूं जिले की खींवसर सीट की करें तो यहां पर कुल 2,50,155 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे . इनमें से 1,30,908 पुरुष और 1,19,247 महिला मतदाताओं की संख्या है . खींवसर विधानसभा क्षेत्र में 608 सेवा नियोजित मतदाता हैं, विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र खींवसर में कुल 266 मतदान केन्द्र हैं.

यहां की दोनों विधानसभाओं सीटों पर 21 अक्टूबर को मतदान होगा. जबकि मतो की गिनती 24 अक्टूबर को होगी. मुख्य चुनाव अधिकारी आनंद कुमार ने बताया कि खींवसर से कांग्रेस से हरेन्द्र मिर्धा, राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के उम्मीदवार नारायणराम बेनीवाल और निर्दलीय अंकुर शर्मा उम्मीदवार हैं. लेकिन मुख्य मुकाबला कांग्रेस और एनडीए गठबंधन के आरएलपी उम्मीदवार नारायण बेनीवाल के बीच माना जा रहा है. वहीं, मंडावा विधानसभा सीट पर कांग्रेस की रीटा चौधरी, बीजेपी की सुशीला सींगड़ा और अंबेडकराइट पार्टी ऑफ इंडिया के कैंडिकेड दुर्गा मीणा के अलावा अन्य 6 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला सोमवार को होने जा रहा है.

दिव्यांग वोटर्स के लिए बनाए गए रैंप्स
मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनंद कुमार ने बताया कि मतदान के दौरान मतदाताओं को मतदान केन्द्र पर सभी प्रकार की जरुरी सुविधाएं उपलब्ध करवायी जा रही हैं. दिव्यांग मतदाताओं के लिये सभी मतदान केन्द्रों पर रैम्प्स बनाए गए हैं. मंडावा और खींवसर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों में एक-एक आदर्श मतदान केन्द्र एवं महिला मतदान कर्मियों द्वारा संचालित किए जा रहे मतदान केन्द्र भी बनाए गए हैं. वोटिंग के लिए मतदाताओं की सुविधा के लिए चार अलग-अलग तरह के पोस्टर्स भी प्रदर्शित किए जाएंगे, जिनमें चुनाव से जुड़ी कई महत्वपूर्ण जानकारियां उपलब्ध होंगी .

11 दस्तावेजों में से किसी एक को रखें साथ
वोटिंग के लिए मतदाताओं को पहचान स्थापित करने के लिए मतदाता फोटो पहचान पत्र के अलावा 11 अन्य दस्तावेजों में से किसी एक को अपने साथ लाना होगा..जिनमे से पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, केन्द्र या राज्य सरकार के लोक उपक्रम का आईकार्ड, पब्लिक लिमिटेड कम्पनियों द्वारा अपने कर्मचारियों को जारी किये गये फोटोयुक्त पहचान पत्र, बैंक या डाकघरों द्वारा जारी की गई फोटोयुक्त पास बुक, पैन कार्ड, एनपीआर के अंतर्गत आरजीआई द्वारा जारी किए गए स्मार्ट कार्ड, मनरेगा जॉब कार्ड, श्रम मंत्रालय की योजना के अंतर्गत जारी स्वास्थ्य बीमा स्मार्ट कार्ड, फोटो युक्त पेंशन दस्तावेज, सांसदों, विधायकों या विधान परिषद् सदस्यों को  जारी किए गए सरकारी पहचान पत्र साथ ही आधार कार्ड भी मान्य होगा .

मतदान केंद्रों पर रहेंगे वॉलिंटियर
मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनंद कुमार ने यह भी जानकारी दी कि पोलिंग बूथ पर विधानसभा और लोकसभा चुनाव की तरह ही दिव्यांग मतदाताओं को रैम्प, 18 साल से अधिक आयु के किसी व्यक्ति को आवश्यक होने पर सहायक के रूप में ले जाने की अनुमति, मतदान केन्द्र परिसर में व्हील चेयर ले जाने की अनुमति, दृष्टि बाधित मतदाताओं को अपने पसंद का उम्मीदवार जानने हेतु ब्रेल लिपि में डमी बैलेट शीट की सुविधाएं उपलब्ध करवायी जा रही हैं. मतदान केन्द्र पर दिव्यांग जनों की सहायता के लिए वॉलिंटियर भी नियुक्त किए गए हैं.

क्रिटिकल पोलिंग बूथों पर होगी कड़ी सुरक्षा
दोनों विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों में शांतिपूर्ण मतदान कराने के लिए कड़ी सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित की गई है. मंडावा विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में 60 क्रिटिकल मतदान केन्द्र और खींवसर में 121 क्रिटिकल मतदान केन्द्र चिन्हित किए गए हैं. दोनों विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों में 8-8 केन्द्रीय सुरक्षा बलों की कंपनियां उपलब्ध करवायी गई हैं. शांति व्यवस्था बनाये रखने के लिए मतदान केन्द्रों पर पर्याप्त केन्द्रीय बलों की तैनाती के साथ ही लाइव वेबकास्टिंग और वीडियोग्राफी की भी व्यवस्था की गई है.