Andhra Pradesh: 21 साल से लड़ रहे थे तलाक की लड़ाई, कोर्ट की ये बात सुन साथ रहने को राजी हुए पति-पत्नी

पिछले 21 सालों से तलाक के लिए कानूनी लड़ाई लड़ रहे एक कपल को चीफ जस्टिस ने मिलवा दिया. अब पति-पत्नी एक दूसरे के साथ रहने को तैयार हो गए हैं. कोर्ट ने 2 सप्ताह के अंदर उनसे नया हलफनामा दाखिल करने के लिए कहा है.

Andhra Pradesh: 21 साल से लड़ रहे थे तलाक की लड़ाई, कोर्ट की ये बात सुन साथ रहने को राजी हुए पति-पत्नी
सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो).

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट (Supeme Court) ने बुधवार को आगे बढ़कर 21 साल साल से कानूनी लड़ाई लड़ रहे आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) के जोड़े को मिला दिया, जब पत्नी दहेज उत्पीड़न के मामले में पति को सुनाई गई जेल की सजा की अवधि बढ़ाने की अर्जी को वापस लेने पर सहमत हुई. इससे पहले दोनों के बीच मध्यस्थता की तमाम कोशिशें असफल हो गई थीं.

तेलगु भाषा में हुई SC की कार्रवाई

चीफ जस्टिस एनवी रमण की अध्यक्षता वाली पीठ ने पति और पत्नी का वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए अपने सामने संवाद कराने का विशेष प्रयास किया. इस पीठ में जस्टिस सूर्यकांत भी शामिल थे. महिला सुप्रीम कोर्ट के कामकाज की भाषा अंग्रेजी में असहज थी. ऐसे में चीफ जस्टिस ने स्वयं तेलुगु भाषा में बातचीत की और साथी जस्टिस को भी उसके बयान के बारे में बताया. पति की सजा बढ़ाने के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाने वाली महिला से चीफ जस्टिस ने सुनवाई के दौरान कहा, ‘अगर आपका पति जेल चला जाएगा, तो अपको मासिक भत्ता भी नहीं मिल पाएगा क्योंकि उसकी नौकरी छूट जाएगी.’

ये भी पढ़ें:- China: शादी के बाद दूल्हे के दोस्त उतारते हैं दुल्हन के कपड़े, विचित्र है रिवाज

इस शर्त पर महिला ने दी अपनी मंजूरी

आंध्र प्रदेश सरकार का कर्मचारी और गुंटुर में तैनात पति की ओर से पेश एडवोकेट डी. रामकृष्णा ने कहा कि चीफ जस्टिस ने महिला को तेलुगु में कानूनी स्थिति बताई और स्पष्ट किया कि कैद की अवधि बढ़ने से पति-पत्नी दोनों को लाभ नहीं होगा. रेड्डी ने चीफ जस्टिस को हवाला देते हुए कहा, अगर जेल की अवधि बढ़ाई गई तो आपको क्या मिलेगा...आपका मासिक गुजारा भत्ता भी रुक सकता है.’ महिला ने चीफ जस्टिस की सलाह शांति से सुनी और इसके बाद पति के साथ रहने को सहमत हो गई, बशर्ते उसका और उसके इकलौते बेटे की ठीक से देखभाल पति करे.

ये भी पढ़ें:- 1,41,078 साल की सजा; जानिए दुनिया के सबसे बड़े क्राइम एवं कारावास

21 साल बाद साथ रहने पर हुई सहमति

इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने पति-पत्नी से दो हफ्ते में अलग-अलग हलफनामा दाखिल करने को कहा है, जिसमें जिक्र हो कि वे साथ रहना चाहते हैं. इसके अलावा पत्नी हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में दाखिल अपील वापस लेने और पति के खिलाफ दहेज उत्पीड़न का मुकदमा खत्म करने की अर्जी देने पर भी सहमत हुई. इसके साथ ही पति ने तलाक की अर्जी भी वापस लेने पर सहमति जताई. गौरतलब है कि दपंति की शादी वर्ष 1998 में हुई थी. लेकिन दोनों के रिश्तों में जल्द खटास आ गई, जिसकी वजह से महिला ने वर्ष 2001 में पति के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज कराया. दोनों के बीच मध्यस्थता की कई कोशिश की गई लेकिन असफल रही.

LIVE TV

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.