पीएम मोदी बोले-हम जम्‍मू कश्‍मीर में आतंक की कमर तोड़कर रख देंगे

श्रीनगर में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि हर आतंकवादी को मुहंतोड़ जवाब दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि सरकार घाटी में आतंक की कमर तोड़ देगी.

पीएम मोदी बोले-हम जम्‍मू कश्‍मीर में आतंक की कमर तोड़कर रख देंगे
श्रीनगर में पीएम मोदी ने आतंकवाद से लड़ने का संकल्‍प एक बार फि‍र दोहराया. फोटो : पीटीआई

श्रीनगर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कहा कि नियंत्रण रेखा के पार लक्षित हमले (सर्जिकल स्ट्राइक) करके भारत ने आतंकवाद से निपटने के लिए दुनिया को अपनी नई नीति और रीति से रू-ब-रू कराया है. श्रीनगर में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि हर आतंकवादी को मुहंतोड़ जवाब दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि सरकार घाटी में आतंक की कमर तोड़ देगी.

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘मैं जम्मू कश्मीर और देश के सभी युवाओं को आश्वस्त करता हूं कि सरकार हर आतंकवादी को मुहंतोड़ जवाब देगी. हम राज्य में आतंकवाद की कमर तोड़ देंगे.’ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने श्रीनगर में कहा, हम हर आतंकवादी से उचित तरीके से निपटेंगे.  

चुनाव जीतने के लिए कृषि रिण माफी की घोषणा करती है कांग्रेस
इससे पहले जम्‍मू में पीएम मोदी ने कृषि ऋण छूट के कांग्रेस के वादे को लेकर उस पर निशाना साधते हुए कहा कि विपक्षी पार्टी केवल चुनाव जीतने के लिए इस तरीके को अपनाती है और उनकी पिछली ऐसी योजनाओं से केवल बिचौलियों और चुनिंदा किसानों को ही फायदा हुआ है. मोदी ने कहा, ‘कांग्रेस ने हमेशा अपनी कृषि ऋण माफी योजना से 70-80 प्रतिशत गरीब किसानों को छोड़ दिया.’

मोदी ने यहां विजयपुर में एक अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) और एक भारतीय जनसंचार संस्थान (आईआईएमसी) समेत 6000 करोड़ रुपये की विभिन्न विकास परियोजनाओं की आधारशिला रखी. उन्होंने बिजली से संबंधित कुछ परियोजनाओं का भी शिलान्यास और उद्घाटन किया. नागरिकता (संशोधन) विधेयक की मजबूत वकालत करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विजयपुर में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि उनकी सरकार मां भारती की उन संतानों के साथ खड़ी रहेगी जिन्होंने पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में अत्याचार का सामना किया है.

मोदी ने कहा, ‘‘मां भारती की कई संतानों ने पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांगलादेश में अत्याचार का सामना किया है. हम उन लोगों के साथ खड़े रहेंगे जो एक वक्त भारत का हिस्सा थे, लेकिन 1947 में विभाजन की वजह से हमसे अलग हो गये थे.’ प्रधानमंत्री ने कश्मीरी पंडितों से जुड़े बहुत भावनात्मक विषय का उल्लेख करते हुए कहा कि केंद्र सरकार विस्थापित समुदाय को सम्मान और प्रतिष्ठा दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है.

उन्होंने कहा, ‘‘उनको जिस पीड़ा से गुजरना पड़ा है... उन्हें अपना घर छोड़ना पड़ा. मैंने इस बारे में कभी नहीं कहा लेकिन उनकी पीड़ा मेरे अंदर भी है.’ उन्होंने कहा ‘‘केंद्र की सरकार मेरे कश्मीरी पंडित, कश्मीरी विस्थापित भाइयों और बहनों के अधिकारों, उनके सम्मान और उनके गौरव के लिए समर्पित है, प्रतिबद्ध है.’ मोदी ने कहा कि एक तरफ तो दुश्मन को करारा जवाब दिया जा रहा है, वहीं दूसरी तरफ सीमा पर 14 हजार बंकर बनाए जा रहे हैं, ताकि आप सभी सुरक्षित रह सकें.

उन्होंने दावा किया कि कांग्रेस ने 2008-09 में 6 लाख करोड़ रुपये के कृषि रिण में छूट का वादा किया था, लेकिन सत्ता में आने के बाद केवल 52,000 करोड़ रुपये की ही कर्ज माफी की. मोदी ने कहा, ‘‘कैग की रिपोर्ट में पता चला कि इसमें करीब 30-35 लाख ऐसे लोगों का कृषि रिण माफ किया गया जो इसके पात्र ही नहीं थे.’

मध्य प्रदेश में कांग्रेस के कृषि रिण माफी के फैसले पर चुटकी लेते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि कुछ लाभार्थियों को मात्र 13 रुपये के चैक दिये गये हैं. मोदी ने कहा कि उनकी प्रत्यक्ष लाभ अंतरण प्रधानमंत्री-किसान सम्मान योजना के तहत सालाना 75,000 करोड़ रुपये आवंटित किए जाएंगे. इसका मतलब हुआ कि अगले 10 साल में किसानों के खातों में 7.50 लाख करोड़ रुपये जमा किये जाएंगे. मोदी ने कहा कि बजट में घोषित की गई इस योजना का लाभ केवल एक बार नहीं मिलेगा, बल्कि हर वर्ष मिलने वाला है. उन्होंने कहा कि योजना का उद्देश्य ऐसे 90 प्रतिशत किसानों को कवर करना है जिनके पास पांच एकड़ से कम जमीन है। उनके खातों में हर साल दो-दो हजार रुपये की तीन किश्तों में 6,000 रुपये डाले जाएंगे.

उन्होंने संप्रग सरकार के कार्यकाल का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘जनता देश के नामदार का ट्रैक रिकॉर्ड जानती है। उन्हें चुनाव से पहले ही कृषि रिण का बुखार चढ़ता है. वे 10 साल में एक बार फसल कर्ज माफी की घोषणा करके किसानों का मसीहा बनने की कोशिश करते हैं.’