बिजनौर कोर्ट रूम गोलीकांड: 3 आरोपियों में से 2 बताए जा रहे नाबालिग, दिनदहाड़े की थी हत्या

सीजेएम सतीश कुमार ने सभी आरोपियों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है.

बिजनौर कोर्ट रूम गोलीकांड: 3 आरोपियों में से 2 बताए जा रहे नाबालिग, दिनदहाड़े की थी हत्या
आरोपी साहिल की मां ने बेटे की उम्र 15-16 साल बताई है.

बिजनौर: मंगलवार को बिजनौर कोर्ट में फायरिंग करने के मामले में पकड़े गए तीन आरोपियों में से दो नाबालिग बताए जा रहे हैं. पुलिस ने आज तीनों आरोपियों को कोर्ट में पेश किया, जहां से सीजेएम सतीश कुमार ने आरोपियों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है.

दरअसल, 17 दिसम्बर यानि मंगलवार की दोपहर बिजनौर सीजेएम कोर्ट उस वक्त गोलियों की तड़तड़ाहट से गूंज उठा, जब दिल्ली की तिहाड़ जेल से बिजनौर कोर्ट में पेशी पर लाए गए शाहनवाज और जब्बार पर 25 राउंड गोलियां चलाई गई. इस दौरान, आरोपी शाहनवाज की मौत हो गई, जबकि जब्बार जान बचाकर कोर्ट रूम से भाग निकला. वहीं, सीजेएम योगेश कुमार इस घटना में बाल-बाल बचे.

इस गोलीबारी में दो पुलिसकर्मी भी घायल हो गए. जिसके बाद घायल पुलिसकर्मियों को अस्पताल में भर्ती कराया गया. वहीं, वारदात को अंजाम देने के बाद तीनों बदमाशों ने कोर्ट रूम के अंदर सरेंडर कर दिया.

शुरुआती पूछताछ में सामने आया कि इनमें से साहिल नाम के आरोपी ने अपने पिता अहसान खान की हत्या का बदला लेने के लिए वारदात को अंजाम दिया. 

जानकारी के मुताबिक साहिल कक्षा 11वीं का छात्र है. उधर, घटना को अंजाम देने वाले साहिल की मां पर दुखों का आसमान टूट पड़ा है. रो-रोकर उन्होंने बताया कि छह माह पहले उनके पति अहसान की शाहनवाज अंसारी ने हत्या कर दी थी, वहीं, अब बेटे ने बदला लेने के लिए वारदात को अंजाम दे दिया. आरोपी साहिल की मां ने बेटे की उम्र 15-16 साल बताई है.

उधर, दूसरा आरोपी अखिराज साहिल का दोस्त है और उसी की उम्र का बताया जा रहा है. जबकि तीसरे आरोपी की बालिग होने की जानकारी है. जिसका नाम सुमित बताया जा रहा है.