close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

BJP के विधायक सुरेंद्र सिंह बोले- '2019 की लड़ाई भारत में बोटी और बोतल बनाम रोटी और लंगोटी होगी'

2014 में हुए लोकसभा चुनाव का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि पिछली बार बसपा ने डबल जीरो पाया था, अबकी बार जीरो स्क्वायर मिलेगा. 

BJP के विधायक सुरेंद्र सिंह बोले- '2019 की लड़ाई भारत में बोटी और बोतल बनाम रोटी और लंगोटी होगी'
गठबंधन पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि जहां भावनाएं नहीं मिलती, वहां गठबंधन कैसे हो सकता है.

बलिया: अपने विवादित बयानों को लेकर चर्चा में रहने वाले यूपी के बलिया के बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह ने सपा-बसपा के गठबंधन पर तंज कसा है. उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि गठबंधन के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती ने 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव के बाद प्रधानमंत्री का ख्वाब देख रही है. उन्होंने कहा कि मायावती प्रधानमंत्री क्या ग्राम प्रधान भी नहीं बन सकती है. 2014 में हुए लोकसभा चुनाव का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि पिछली बार बसपा ने डबल जीरो पाया था, अबकी बार जीरो स्क्वायर मिलेगा. 

बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह यहीं नहीं रुके उन्होंने बसपा के नेताओं को बिकाऊ बताया और दावा किया कि बसपा के लोग मायावती से टिकट खरीदकर दो-चार भाई चुनाव जीत भी गए तो जीतने के तुरंत बाद वो पीएम मोदी के साथ आ जाएंगे, क्योंकि वो सब बिकाऊ माल है. 

बीजेपी विधायक यही नहीं रुके और उन्होंने कहा कि आपकी बार संसार बनाम परिवार के बीच लड़ाई है. एक ओर ऐसे नेता है जो परिवार को ही संसार मानते हैं. वहीं, एक तरफ ऐसे नेता है जो अपने परिवार को ही संसार मानता है. सुरेंद्र सिंह ने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि अखिलेश यादव पार्टी के कोष के अपने चाचा को अलग कर दिया, पिता को अलग कर दिया. वो खुद पार्टी अध्यक्ष हैं और उनकी पत्नी कोषाध्यक्ष हैं. 

विधायक ने सपा मुखिया अखिलेश यादव और बसपा मुखिया मायावती के गठबंधन पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि जहां भावनाएं नहीं मिलती, वहां गठबंधन कैसे हो सकता है. उन्होंने इस गठबंधन को शुद्ध रूप से राजनीति का व्यापार बताया. उन्होंने कहा कि यूपी में मायावती की दुकान बंद हो गई थी. अपनी दुकान को खोलने के लिए उन्होंने अखिलेश का इस्तेमाल किया. 

सुरेंद्र सिंह ने कहा कि ये गठबंधन दो दलों की नहीं, बल्कि दो परिवारों का है. एक मायावती परिवार और दूसरा मुलायम परिवार. विधायक ने जोर देते हुए कहा कि अबकी बार 2019 की लड़ाई भारत में बोटी और बोतल बनाम रोटी और लंगोटी होने वाली है. विधायक ने मोदी को रोटी और लंगोटी पार्टी बताते हुए नेहरू परिवार, मायावती परिवार, मुलायम परिवार और लालू परिवार को बोटी और बोतल की पार्टी कह डाला.