BA थर्ड इयर की छात्रा आरती तिवारी को BJP ने UP के इस सीट से बनाया प्रत्याशी, चाचा से प्रेरणा ले शुरू की राजनीति

जिला पंचायत अध्यक्ष पद का प्रत्याशी घोषित करने को लेकर दिग्गजों को बीच घमासान मचा हुआ था. यहां से जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए पार्टी का टिकट पाने के लिए चार लोगों ने आवेदन किया था. 

BA थर्ड इयर की छात्रा आरती तिवारी को BJP ने UP के इस सीट से बनाया प्रत्याशी, चाचा से प्रेरणा ले शुरू की राजनीति
आरती तिवारी ( जिला पंचायत अध्यक्ष प्रत्याशी)

बलरामपुर: यूपी के बलरामपुर में बीजेपी प्रदेश नेतृत्व ने राज्य की सबसे कम उम्र की जिला पंचायत सदस्य को अध्यक्ष पद का प्रत्याशी घोषित किया है. आरती महज 21 साल की हैं और बीए तृतीय वर्ष की छात्रा हैं.  आरती ने अपने क्षेत्र के दिग्गजों को हराकर रिकार्ड मतों के अंतर से जीत दर्ज कराई थी. बीजेपी में 4 दिग्गज जिला पंचायत अध्यक्ष पद के दावेदार थे लेकिन बीजेपी ने युवा चेहरे को मौका दिया. इससे बीजेपी कार्याकर्ताओं में खुशी की लहर है. 

बड़े-बड़े दिग्गजों को छोड़ा पीछे 
जिला पंचायत अध्यक्ष पद का प्रत्याशी घोषित करने को लेकर दिग्गजों को बीच घमासान मचा हुआ था. यहां से जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए पार्टी का टिकट पाने के लिए चार लोगों ने आवेदन किया था. जिसमें रेनू सिंह, निर्मला यादव, तारा दयाल यादव व आरती सिंह शामिल थीं. कोई बाहुबल में मजबूत था तो कोई धन बल में लेकिन बीजेपी प्रदेश नेतृत्व ने सभी को नकारते हुए एक युवा चेहरे को अपना प्रत्याशी बनाया है.

बऊआ लोध बनकर मोहम्मद गब्बर ने की विधवा से शादी, फिर गहने बेच करने लगा प्रताड़ित 

रिकॉर्ड मतों से दर्ज की थी जीत 
जिले और शायद प्रदेश के इतिहास में ये पहली बार है कि किसी 21 साल की युवती आरती तिवारी को जिला पंचायत अध्यक्ष पद का प्रत्याशी घोषित किया है. 21 वर्षीय आरती को राजनीति में कोई रुचि नहीं थी लेकिन परिवार की राजनीतिक विरासत को देखते-देखते वह बड़ी हुई हैं. आरती अभी जिले के महारानी लाल कुंवरि स्नातकोत्तर महाविद्यालय में बीए तृतीय वर्ष की छात्रा हैं. इन्होंने जिले के वार्ड नंबर 17 चैधरीडीह से जिला पंचायत सदस्य पद के लिए चुनाव लड़ा था. वह 7157 मत प्राप्त करके विजयी होकर आई हैं.

VIDEO: CUTE बच्ची की मासूमियत! भगवान से प्रसाद ग्रहण करने के लिए कर रही रिक्वेस्ट

चाचा से सिखी राजनीति
जिला पंचायत चुनावों को मिनी विधायकी का चुनाव कहा जाता है. इतने कम उम्र में यह सफलता मिलना अपने आप में बड़ी बात है. अपने चाचा श्याम मनोहर तिवारी की प्रेरणा से आरती ने राजनीति में अपनी राह चुनी. आरती के चाचा श्याम मनोहर तिवारी बीजेपी के निष्ठावान कार्यकर्ता माने जाते हैं. चाचा की प्रेरणा पाकर आरती ने जिला पंचायत चुनाव लड़ने का मन बनाया और भारतीय जनता पार्टी से अपनी उम्मीदवारी पेश की.
जिसके बाद वे भारी मतों से विजयी हुई.

Dharmantaran Racket: टेरर एंगल से जांच कर रही ATS, एक आतंकी की लोकेशन डिटेल मांगी गई

यूथ आइकन के रूप में बना रही पहचान 
 इसके बाद आरती ने जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर प्रत्याशी बनाए जाने को लेकर पार्टी कार्यालय में आवेदन भी किया था जिसे प्रदेश नेतृत्व ने स्वीकार कर उन्हे प्रत्याशी बनाया. आरती देवी जिले में यूथ आइकन के रूप में उभर रही हैं. 23 जून की देर शाम बीजेपी जिलाध्यक्ष प्रदीप सिंह ने पत्र जारी कर कुमारी आरती तिवारी को पार्टी का अधिकृत प्रत्याशी बनाये जाने की घोषणा भी की.  

WATCH LIVE TV