close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कॉर्बेट नेशनल पार्क में हाथियों को मार रहे हैं बाघ, केंद्र ने मांगी मामले की रिपोर्ट

अध्ययन के मुताबिक, 2014 से 31 मई 2019 तक प्रजनन को लेकर हुई आपस में लड़ाई के चलते कुल नौ बाघ, 21 हाथी और छह तेंदुएं मारे गए.

कॉर्बेट नेशनल पार्क में हाथियों को मार रहे हैं बाघ, केंद्र ने मांगी मामले की रिपोर्ट
उद्यान के निदेशक चतुर्वेदी ने कहा, ‘‘इसका एक कारण यह हो सकता है कि सांभर और चीतल जैसे जंतुओं के शिकार की तुलना में हाथी के शिकार में बाघों को कम ऊर्जा और प्रयास करने की जरूरत पड़ती है. साथ ही, हाथी को मारने से उन्हें काफी मात्रा में भोजन मिल जाता है.’’

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान के अधिकारियों द्वारा किए गए एक अध्ययन को लेकर उत्तराखंड के वन विभाग से एक रिपोर्ट मांगी है. दरअसल इस अध्ययन के मुताबिक उद्यान में बाघ हाथियों को, खास तौर पर उनके बच्चों को मार कर खा रहे हैं. अधिकारियों ने रविवार को बताया कि पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने उत्तराखंड सरकार के चीफ वाइल्डलाइफ वार्डन से इस विषय पर एक रिपोर्ट मांगी है. गौरतलब है कि पीटीआई-भाषा की 16 जून की खबर के मुताबिक बाघ कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान में हाथियों को मार डाल रहे हैं और उन्हें खा रहे हैं.

अध्ययन के मुताबिक, 2014 से 31 मई 2019 तक प्रजनन को लेकर हुई आपस में लड़ाई के चलते कुल नौ बाघ, 21 हाथी और छह तेंदुएं मारे गए. ‘‘वन्य जंतुओं की तीन प्रजातियों के कुल 36 मामलों में 21 मामले केवल हाथियों के थे. हालांकि, एक काफी आश्यर्चजनक पहलू यह है कि करीब 60 फीसदी जंगली हाथियों की मौत (13 मामले) बाघों के हमले की वजह से और खासतौर पर हाथियों के बच्चों को निशाना बनाया गया.’’ वरिष्ठ आईएफएस(भारतीय वन सेवा) अधिकारी और राष्ट्रीय उद्यान के प्रभारी संजीव चतुर्वेदी ने कहा कि बाघों द्वारा हाथियों को खाने की घटना अनूठी है.

उद्यान के निदेशक चतुर्वेदी ने कहा, ‘‘इसका एक कारण यह हो सकता है कि सांभर और चीतल जैसे जंतुओं के शिकार की तुलना में हाथी के शिकार में बाघों को कम ऊर्जा और प्रयास करने की जरूरत पड़ती है. साथ ही, हाथी को मारने से उन्हें काफी मात्रा में भोजन मिल जाता है.’’ उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय उद्यान की पारिस्थितिकी भी अनूठी है क्योंकि यहां 225 बाघ और करीब 1,100 जंगली हाथी हैं जबकि रणथम्भौर, कान्हा और बांधवगढ़ जैसे दूसरे राष्ट्रीय उद्यानों में मुख्य रूप से बाघ ही हैं.