सौम्य और मिलनसार स्वभाव के थे प्रणब दा, निधन पर BJP के कई दिग्गजों से लेकर SP-BSP मुखिया ने किया याद

84 वर्ष की उम्र में आखिरी सांस लेने वाले प्रणब दा अपने सौम्य और मिलनसार स्वभाव के लिए जाने जाते थे, जमीन से जुड़े प्रणब मुखर्जी ने पूरी तन्मयता के साथ विभिन्न पदों पर रहते हुए देश की सेवा की. 

सौम्य और मिलनसार स्वभाव के थे प्रणब दा, निधन पर BJP के कई दिग्गजों से लेकर SP-BSP मुखिया ने किया याद
फोटो साभार: @CitiznMukherjee

लखनऊ: पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी भले ही कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे हों लेकिन उन्हें चाहने वाले हर पार्टी में मौजूद हैं. 84 वर्ष की उम्र में आखिरी सांस लेने वाले प्रणब दा अपने सौम्य और मिलनसार स्वभाव के लिए जाने जाते थे, जमीन से जुड़े प्रणब मुखर्जी ने पूरी तन्मयता के साथ विभिन्न पदों पर रहते हुए देश की सेवा की. यही वजह है आज उनके निधन पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से लेकर उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उन्हें याद किया. वहीं समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी मुखिया ने भी उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है.

प्रणब मुखर्जी का निधन राष्ट्र के लिए अपूरणीय क्षति: CM योगी
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूर्व राष्ट्रपति, भारत रत्न प्रणब मुखर्जी के निधन को राष्ट्र के लिए अपूरणीय क्षति बताया. उन्होंने कहा कि वह सार्वजनिक जीवन में शुचिता, पारदर्शिता एवं स्पष्टवादिता की प्रतिमूर्ति थे. परिजनों के प्रति संवेदनाएं व्यक्त करते हुए सीएम योगी ने कहा कि ईश्वर से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को अपने परमधाम में स्थान दें.

ये भी पढ़ें: अलविदा प्रणब दा: क्लर्क से भारत के राष्ट्र​पति बने, इंदिरा से करीबी तो राजीव से तल्खी भी रही

भारत की राजनीति ने आज एक सच्चा रत्न खोया: अखिलेश यादव
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी राष्ट्र के विकास पथ पर एक अमिट छाप छोड़ने वाले भारत रत्न प्रणब मुखर्जी को भावभीनी श्रद्धांजलि दी. उन्होंने कहा कि भारत की राजनीति ने आज एक सच्चा रत्न खोया है.

मायावती ने भी प्रणब दा को किया याद
बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी बहुमुखी प्रतिभा के धनी प्रणब मुखर्जी के निधन पर दुख जताते हुए कहा कि शोकसंतप्त परिवार व समर्थकों के प्रति गहरी संवेदना है. सौम्य व सभ्य स्वभाव के प्रणब मुखर्जी के लंबे राजनीतिक जीवन व देशसेवा समर्पण को हमेशा याद किया जाता रहेगा.

ये भी पढ़ें: प्रणब मुखर्जी: वो नेता जो कांग्रेस के लाख विरोध के बावजूद RSS के बुलाने पर पहुंचा था संघ कार्यालय

आज देश ने एक विद्वान राजनेता खोया: CM त्रिवेंद्र
उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी प्रणब दा को याद किया. उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि पूर्व राष्ट्रपति एवं भारत रत्न प्रणब मुखर्जी के निधन की खबर से स्तब्ध हूं. ईश्वर से दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करने और परिजनों को संबल प्रदान करने की प्रार्थना करता हूं. प्रणब मुखर्जी के रूप में आज देश ने एक विद्वान राजनेता खो दिया है. ॐ शांति.

प्रणब दा का जाना समाज के लिए अपूरणीय क्षति: स्पीकर प्रेमचंद अग्रवाल
उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने भी भारत के 13वें  राष्ट्रपति भारत रत्न प्रणब मुखर्जी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया. विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि प्रणब मुखर्जी का हम लोगों के बीच से जाना समाज के लिए एक अपूरणीय क्षति है. विधानसभा अध्यक्ष ने भगवान से उनकी आत्मा को शांति प्रदान करने की प्रार्थना करते हुए उनके शोक संतप्त परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की है.

WATCH LIVE TV: