बाइक बोट घोटाले के मास्टरमांइड पर ईडी का शिंकजा,छापेमारी में 104 करोड़ की संपत्ति जब्त

बाइक बोट घोटाले का आरोपी संजय भाटी और उसकी कंपनी जांच एजेंसियों के रडार पर है. ईडी के अधिकारियों ने इस कड़ी में एक साथ कई जगहों पर छापेमारी मारी. 12 अलग अलग जगहों पर की इस कार्रवाई में संजय भाटी और उसकी कंपनी की 104 करोड़ की प्रॉपर्टी सीज की गई है. 

 बाइक बोट घोटाले के मास्टरमांइड पर ईडी का शिंकजा,छापेमारी में 104 करोड़ की संपत्ति जब्त
फाइल फोटो

नोएडा: संजय भाटी इस वक्त सलाखों के पीछे है. बाइक बोट घोटाले का आरोपी संजय भाटी और उसकी कंपनी जांच एजेंसियों के रडार पर है. ईडी के अधिकारियों ने इस कड़ी में एक साथ कई जगहों पर छापेमारी मारी. 12 अलग अलग जगहों पर की इस कार्रवाई में संजय भाटी और उसकी कंपनी की 104 करोड़ की प्रॉपर्टी सीज की गई है. उत्तर प्रदेश में ईडी की टीम ने नोएडा, गाजियाबाद कानपुर और बुंलदशहर सहित मध्य प्रदेश के इंदौर में रेड डाली. नोएडा ,गाजियाबाद बुलंदशहर कानपुर और इंदौर से कुल 19 संपत्तियां सीज की गई है.

बता दें कि ईडी ने बाइक बोट घोटाले में कुल 12 जगहों पर छापेमारी कर बेनामी संपत्ति से जुड़े दस्तावेज भी बरामद किए हैं. जिसके आधार पर 7 ऐसी और भी संपत्तियों का खुलासा हुआ है. जो अन्य लोगों के नाम से खरीदी गई थी. इन संपत्तियों को भी सीज कर लिया गया है.

ये भी पढ़ें-फर्रूखाबाद: गंगा स्नान के लिए गए थे 4 यार, सेल्फी के चक्कर में गई 3 की जान

संजय भाटी और उसकी गर्वित इन्नोवेटिव के नाम से 26 कीमती प्लॉट और फ्लैट का भी खुलासा हुआ है. इन्हें भी सीज कर दिया गया है. संजय भाटी के बैंक खातों को लेकर मिली जानकारी के आधार पर 22 बैंक खातों को भी सीज कर दिया गया है.

मनी लाड्रिंग के भी मिला है सबूत
बेनामी संपत्ति के साथ मनी लाॉर्डिंग से भी जुड़े दस्तावेज ईडी ने जब्त किए हैं.  जहां 101.45 करोड़ के मकान, फ़्लैट, प्लॉट का खुलासा हुआ है वहीं  बैंक में जमा 2 करोड़ 28 लाख की रकम के बारे में भी जानकारी सामने आई है. इन सभी खातों में जमा रकम को ईजी ने सीज कर दिया है. नोएडा का को-ऑपरेटिव बैंक भी  सवालों के घेरे में है. बड़े पैमाने पर को-ऑपरेटिव बैंक के अधिकारियों के साथ मिलीभगत कर पैसों के हेराफेरी के सबूत मिले है. जानकारी के मुताबिक संजय भाटी ने को-ऑपरेटिव बैंक के जरिए मनी लॉन्ड्रिंग के काले खेल भी अंजाम दिया . नोएडा के को-ऑपरेटिव बैंक के अधिकारियों से पूछताछ में अभी कई और खुलासे हो सकते हैं.