close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कांवड़ यात्रा 2019: 22 जुलाई से रूट होंगे डाटवर्ट, जानें कैसा जाएंगे दिल्ली टू हरिद्वार

22 तारीख से सभी भारी वाहनों को नेशनल हाईवे 58 यानी मेरठ रोड पर जाने से रोक दिया जाएगा. इन वाहनों को 22 तारीख के बाद नेशनल हाईवे 9 से होकर गुजरना होगा. 

कांवड़ यात्रा 2019: 22 जुलाई से रूट होंगे डाटवर्ट, जानें कैसा जाएंगे दिल्ली टू हरिद्वार
25 जुलाई से छोटे वाहनों को भी नेशनल हाईवे 58 पर जाने से रोक दिया जाएगा.

गाजियाबाद: कांवड़ यात्रा के मद्देनजर आने वाली 22 जुलाई से रूट डायवर्ट होने वाला है. 22 तारीख से सभी भारी वाहनों को नेशनल हाईवे 58 यानी मेरठ रोड पर जाने से रोक दिया जाएगा. इन वाहनों को 22 तारीख के बाद नेशनल हाईवे 9 से होकर गुजरना होगा. यही नहीं आने वाली 25 जुलाई से छोटे वाहनों को भी नेशनल हाईवे 58 पर जाने से रोक दिया जाएगा. 

छोटे वाहनों को भी नेशनल हाई-वे 9 का ही इस्तेमाल करना होगा. कांवड़ यात्रा को सकुशल निपटाने के लिए चाक-चौबंद व्यवस्था की गई है. गाजियाबाद के एसपी ट्रैफिक श्याम नारायण सिंह बताया कि शुक्रवार (19 जुलाई) को सीसीटीवी की संख्या को चेक किया गया और ड्रोन कैमरे की निगरानी रखे जाने की बात कही गई है.

आपको बता दें दिल्ली से मेरठ आवाजाही करने वाले लोगों के लिए नेशनल हाईवे-9 से गुजरना थोड़ा मुश्किल हो सकता है. क्योंकि नेशनल हाईवे 9 पर सारा ट्रैफिक का भार बढ़ जाने से वहां जाम के आसार हैं. 

दिल्ली-गाजियाबाद की तरफ से आने वाले भारी वाहन जिन्हें मुजफ्फरनगर ,सहारनपुर, हरिद्वार, देहरादून व बिजनौर जाना है, उन्हें गाजियाबाद से वाया हापुड़, चौकी साइलो-सेकेंड से किठौर रोड से कस्बा किठौर होते हुए परीक्षितगढ़, मवाना, बहसूमा, रामराज, मीरापुर, जानसठ, से मुजफ्फरनगर की ओर रवाना होंगे. जिन वाहनों को हरिद्वार व देहरादून की ओर जाना है, ऐसे वाहन मीरापुर से गंगा बैराज, बिजनौर, नजीबाबाद से होकर हरिद्वार व देहरादून जा सकेंगे. 

वहीं, मुरादाबाद-गढ़मुक्तेश्वर की तरफ से आने वाले भारी वाहन जिनको मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, रुड़की और हरिद्वार और देहरादून की ओर जाना है. वह थाना किठौर से किला परीक्षितगढ़ मार्ग पर डायवर्ट कर मवाना, मीरापुर, बिजनौर तथा नजीबाबाद होकर अपने गंतव्य की ओर जा सकेंगे. 

हालांकि, दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे का काफी काम पूरा होने की वजह से कई जगहों पर पिछले सालों के मुकाबले इतनी मुश्किल नहीं आने के आसार हैं. लेकिन फिर भी ट्रैफिक व्यवस्था को सुचारू रखने के लिए अलग से पुलिसकर्मी तैनात किए गए.