ऑनलाइन ना पढ़ने वाले बच्चों के लिए अनोखी पहल, ‘मेरा घर मेरा विद्यालय’ कार्यक्रम की शुरूआत

कोरोना वायरस का सबसे ज्यादा असर शिक्षा व्यवस्था पर पड़ा है. स्कूल बंद होने की वजह से बच्चे पढ़ाई नहीं कर पा रहे हैं.ऐसे में  हरिद्वार के शिक्षा विभाग ने छात्रों के भविष्य को उज्ज्वल बनाने के लिए ‘मेरा घर मेरा विद्यालय’ अनोखा कार्यक्रम शुरू किया है .

ऑनलाइन ना पढ़ने वाले बच्चों के लिए अनोखी पहल, ‘मेरा घर मेरा विद्यालय’  कार्यक्रम की शुरूआत
फाइल फोटो

हरिद्वार : कोरोना वायरस का सबसे ज्यादा असर शिक्षा व्यवस्था पर पड़ा है. स्कूल बंद होने की वजह से बच्चे पढ़ाई नहीं कर पा रहे हैं.ऐसे में  हरिद्वार के शिक्षा विभाग ने छात्रों के भविष्य को उज्ज्वल बनाने के लिए ‘मेरा घर मेरा विद्यालय’ अनोखा कार्यक्रम शुरू किया है . इसके तहत शिक्षा विभाग  घर-घर जाकर बच्चों को पढ़ाता है.

हरिद्वार के जिला शिक्षा अधिकारी आनंद भारद्वाज के इस अभियान के तहत सरकारी स्कूल के बच्चों को एनएसएस के कार्यकर्ता घर घर जाकर पढ़ा रहे हैं जिससे उनकी पढ़ाई का कोर्स पूरा हो सके और स्कूल खुलने पर वह अपने आप को पढ़ाई में पिछड़ा महसूस ना करें . साथ ही ऑनलाइन पढ़ाई करने वाले छात्र छात्राओं के साथ पाठ्यक्रम को पढ़ने में किसी प्रकार की दिक्कत ना हो.

जिला शिक्षा अधिकारी आनंद भारद्वाज ने बताया कि फिलहाल पहली से तीसरी कक्षा के लगभग 40000 बच्चों को घर-घर जाकर पढ़ाने का अभियान एनएसएस के कार्यकर्ताओं के सहयोग से किया जा रहा है, इसके लिए रूम द्वारा विशेष सिलेबस बनाया गया है .

ये भी पढ़ें : उत्तराखंड के युवाओं के लिए खुशखबरी, अब दून यूनिवर्सिटी में होगी CINEMA की पढ़ाई

वही एनएसएस के जिला संयोजक डॉक्टर एसपी सिंह का कहना है कि राष्ट्रीय सेवा योजना हमेशा सामाजिक कार्यों के लिए समर्पित रहा है ऐसे में जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा उन्हें जब यह जिम्मेदारी दी गई तो उन्होंने इस चुनौती को स्वीकार कर इस अभियान के लिए कार्यकर्ताओं को अभियान में जोड़ दिया है 

 इस अभियान में जुड़ी छात्रा पायल का कहना है उन्हें बच्चों को पढ़ाने में संतोष मिलता है वे पढ़ाई के साथ साथ अन्य एक्टिविटीज भी कराती हैं ताकि बच्चों का पढ़ाई के साथ-साथ मनोरंजन भी हो सके. साथ ही उन्हें कोरोना महामारी से बचाव के उपाय करने के लिए भी प्रेरित किया जाता है.

watch live tv: