UP Nagar Nikay Chunav 2022 : यूपी नगर निकाय चुनाव में 93 लाख नए मतदाता, नगर निगम-नगर पालिका चुनाव में निर्णायक होंगे
topStories0hindi

UP Nagar Nikay Chunav 2022 : यूपी नगर निकाय चुनाव में 93 लाख नए मतदाता, नगर निगम-नगर पालिका चुनाव में निर्णायक होंगे

UP Nagar Nikay Chunav 2022 : यूपी में नगर निगम, नगर पालिका औऱ नगर पंचायत चुनाव दिसंबर में कराए जाने की संभावना

UP Nagar Nikay Chunav 2022 : यूपी नगर निकाय चुनाव में 93 लाख नए मतदाता, नगर निगम-नगर पालिका चुनाव में निर्णायक होंगे

लखनऊ।  यूपी नगर निकाय चुनाव 2022 (UP Nagar Nikay Chunav 2022) में युवा वोटर बड़ी भूमिका निभाने वाले हैं. इस बार निकाय चुनाव में 4.25 करोड़ वोटर होंगे, जो पिछली बार से करीब 93 लाख ज्यादा हैं. दरअसल, पार्षद मतदाता सूची में संशोधन का काम पूरा होने के करीब है. राज्य निर्वाचन आयोग उत्तर प्रदेश, 18 नवंबर को आधिकारिक तौर नई वोटर लिस्ट का प्रकाशन करेगा. इसके बाद ही चुनाव का ऐलान होगा. इस बार 17 नगर निगम चुनाव के जरिये मेयर यानी महापौर चुने जाएंगे. नगर निगमों के अलावा 200 नगर पालिका परिषद और 546 नगर पंचायतों में चेयरमैन और सदस्य भी चुने जाएंगे.कोई भी मतदाता www.sec.up.nic.in पर वोटर लिस्ट में अपना नाम चेक कर सकते हैं.

यूपी नगर निकाय चुनाव : वोटर लिस्ट से कहीं कट न जाए आपका नाम, जानें कब से कब तक चलेगा मतदाता सूची पुनरीक्षण अभियान​

उत्तर प्रदेश में नगर निकाय चुनाव 2017 तीन चरणों में कराया गया था. राज्य निर्वाचन आयोग ने तब पहले चरण का मतदान 22 नवंबर, दूसरे चरण की वोटिंग 26 नवंबर और अंतिम चरण का मतदान 29 नवंबर 2017 को कराया था. वोटों की गिनती एक दिसंबर को हुई थी. तब यूपी में कानपुर, प्रयागराज, अलीगढ़, गोरखपुर, लखनऊ, वाराणसी, झांसी, बरेली, आगरा, मथुरा समेत 16 नगर निगम थे. अबकी बार शाहजहांपुर 17वें नगर निगम के तौर पर जुड़ेगा. नगर निगमों में ईवीएम से और नगर पालिका और नगर पंचायतों में बैलेट पेपर से वोटिंग कराई जाने के आसार हैं.

UP Nagar Nikay Chunav 2022: बीजेपी अब नगर पालिका और वार्ड स्तर पर 3 दिन चलाएगी अभियान

नगर निगम-नगर पालिका चुनाव की नवंबर अंत में घोषणा संभव
माना जा रहा है कि निर्वाचन आयोग नवंबर के आखिरी में नगर निकाय चुनाव की तारीखों की घोषणा कर सकता है. यानी दिसंबर मध्य में चुनाव कराए जा सकते हैं. दरअसल, उत्तर प्रदेश में 5 दिसंबर को विधानसभा उपचुनाव और 8 दिसंबर को मतगणना होनी है. दिल्ली एमसीडी चुनाव 4 दिसंबर को होने हैं. जबकि गुजरात विधानसभा चुनाव 1 और 5 दिसंबर 2022 को होना है. ऐसे में निकाय चुनाव इसके बाद ही होने के आसार हैं. यूपी नगरीय निकाय चुनावों में बीजेपी, सपा, बसपा, कांग्रेस जैसे बड़े दलों ने अपने इलेक्शन सिंबल पर ही चुनाव लड़ने की तैयारी की है. इसे मिशन 2024 के बीच यूपी में इन दलों के बीच सेमीफाइनल भी माना जा रहा है. 

निर्वाचन प्रक्रिया एक माह चलने के आसार
नगर निकाय चुनाव 2017 में 36289 बूथ और 11389 पोलिंग सेंटर बनाए गए थे.पूरे निकाय चुनाव की प्रक्रिया पूरी 32 दिनों में पूरी हुई थी. 22 नवंबर को पहले चरण में 25 जिलों के 5 नगर निगम, 71 नगर पालिका व 154 नगर पंचायत में वोट डाले गए थे. दूसरे चरण में 25 जिलों के 6 नगर निगम, 51 नगर पालिका और 132 नगर पंचायत में मतदान हुआ था. तीसरे चरण में 26 जिलों के 5 नगर निगम, 76 नगर पालिका और 152 नगर पंचायत में मतदान कराया गया था.

निर्वाचन आयोग की तैयारियां जोरों पर
माना जा रहा है कि उत्तर प्रदेश निर्वाचन आयोग चुनाव के दौरान अति संवेदनशील बूथों की लाइव वेब कास्टिंग कराएगा. नगर निगम चुनाव में यूपी पुलिस से ही कराया जाएगा. केंद्रीय अर्धसैनिक बल का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा. नगर निकाय चुनाव की अधिसूचना जारी होने के साथ ही पुलिस, नगर विकास विभाग और राजस्व में ट्रांसफर-पोस्टिंग और प्रोन्नति पर चुनाव प्रक्रिया पूरी हो जाने तक रोक लग जाएगी. निर्वाचन कार्य में लगे कर्मचारियों का स्थानांतरण नहीं हो सकेगा. चुनाव पूरा होने तक DM और SSP के बिना चुनाव आयोग की मंजूरी के जिले के बाहर नहीं जाएंगे.

बीजेपी समेत बड़े दल अपने सिंबल पर चुनाव लड़ेंगे
राज्य निर्वाचन आयोग में कुल 18 मान्यता प्राप्त पंजीकृत दल हैं. बीजेपी, कांग्रेस के अलावा आम आदमी पार्टी, सपा और बसपा ने भी अपने चुनाव चिन्ह पर मैदान में उतरने का फैसला किया है. 2017 के नगर निकाय चुनाव में 25.9 लाख युवा वोटर बढ़े थे. तब यूपी के 653 नगर निकायों (16 नगर निगम, 199 नगर पालिका परिषद और 438 नगर पंचायत) में मतदान हुआ था.

जबकि निकाय चुनाव के कुल वोटरों में 18 से 35 साल तक के युवाओं की भागीदारी 43.72 प्रतिशत थी. 60 साल से ज्यादा आयु के बुजुर्ग वोटरों की तादाद कम हुई थी. 2012 में सीनियर सिटीजन वोटरों की हिस्सेदारी 14.05 प्रतिशत थी, जो 2017 में 11.17%  रह गई.

2017 के नगर निकाय चुनाव में 33248032 मतदाता थे. इनमें पुरुष मतदाता 17781568 और महिला वोटर 154666464 थे. 35 साल तक के युवा मतदाताओं की संख्या 14537548 मतदाता थी. 35 से 60 वर्ष तक के 14997541 मतदाता थे. 60 साल से अधिक उम्र के 3712943 मतदाता चुनाव प्रक्रिया में शामिल थे.

WATCH: अब घर बैठे मिलेगा राशन कार्ड, जानें ऑनलाइन आवेदन का पूरा तरीका और राशन कार्ड के फायदे

Trending news