close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नोएडा: लोहे का कबाड़ चोरी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सरगना फरार

नगर पुलिस अधीक्षक सुधा सिंह ने बताया कि थाना एक्सप्रेस-वे पुलिस ने बीती रात एक सूचना के आधार पर दो ट्रकों को जांच के लिए रोका. पुलिस ने जब उसके चालकों से पूछताछ की तो पता चला कि ट्रकों में भरा लोहा थाना एक्सप्रेस- वे क्षेत्र में स्थित एक कंपनी से लाया जा रहा है. 

नोएडा: लोहे का कबाड़ चोरी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सरगना फरार
फाइल फोटो

नोएडा: पुलिस ने नोएडा में एक कंपनी के कर्मचारियों से मिलीभगत कर लोहे का कबाड़ चोरी करने वाले एक गिरोह के पांच सदस्यों को शुक्रवार को गिरफ्तार किया. गिरफ्तार किए गए आरोपियों में एक पत्रकार भी शामिल है. इस गिरोह का सरगना फरार है, जिसकी पुलिस तलाश कर रही है.

नगर पुलिस अधीक्षक सुधा सिंह ने बताया कि थाना एक्सप्रेस-वे पुलिस ने बीती रात एक सूचना के आधार पर दो ट्रकों को जांच के लिए रोका. पुलिस ने जब उसके चालकों से पूछताछ की तो पता चला कि ट्रकों में भरा लोहा थाना एक्सप्रेस- वे क्षेत्र में स्थित एक कंपनी से लाया जा रहा है. 

पुलिस को जांच के दौरान पता चला कि कंपनी के कर्मचारियों और कबाड़ियों के गिरोह की मिलीभगत से यह धंधा चल रहा है. ये लोग कंपनी से ट्रक में लोहा भरकर धर्म कांटे पर वजन कराने जाते हैं. पुलिस अधीक्षक ने बताया कि ये लोग ट्रक में भरे लोहे को धर्म कांटे पर 2 से 3 टन कम तुलवाते हैं. 

उन्होंने बताया कि कंपनी के कर्मचारी और कबाड़ी मिलकर उस लोहे को बेचकर मोटी कमाई करते हैं. उन्होंने ने बताया कि इस मामले में पुलिस ने कबाड़ी पंकज शर्मा, नाजिम अली, अजय वर्मा, तथा कंपनी के कर्मचारी विशाल त्यागी और ललित शर्मा को गिरफ्तार किया है. 

उन्होंने बताया कि इस गिरोह का मुख्य सरगना कबाड़ी का काम करने वाला जुबेर अहमद है, जो फरार है. गिरफ्तार आरोपियों में शामिल पंकज शर्मा खुद को पत्रकार बताता है. 

पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला है कि पत्रकारिता की आड़ में पंकज शर्मा काफी दिनों से कबाड़ चोरी के धंधे में संलिप्त है. उन्होंने बताया कि पुलिस को पूछताछ के दौरान यह भी पता चला है कि पंकज शर्मा ने अपने आप को पत्रकार बता कर कई पुलिसवालों से सांठगांठ कर रखी थी. वह कबाड़ी का काम करने वाले अन्य लोगों की गाड़ियों को पुलिस वालों को सूचना देकर पकड़वा देता था, तथा थाने ले जाकर उनसे पुलिस के नाम पर मोटी रकम वसूलता था.