पुलवामा हमले के बाद व्हाट्सएप्प पर फैली नोएडा में आतंकी गतिविधियों की अफवाह, पुलिस हुई सतर्क

'सभी थानों की पुलिस को निर्देश जारी किया गया है कि वह अपने इलाके के महत्वपूर्ण जगहों पर सुरक्षा बढ़ा दें और संदिग्धों पर नजर बनाए रखें.'

पुलवामा हमले के बाद व्हाट्सएप्प पर फैली नोएडा में आतंकी गतिविधियों की अफवाह, पुलिस हुई सतर्क
व्हाट्सएप पर गलत मैसेज के साथ शेयर हो रहा है वीडियो
Play

नोएडाः जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में 14 जनवरी को हुए आतंकी हमले के बाद पूरा देश गम में डूबा है. पूरा देश हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के जवानों को श्रद्धांजलि दे रहा है. पुलवामा में हुए इस हमले के बाद जनता में गुस्से और दुख के भाव साफ देखे जा सकते हैं. वहीं सोशल मीडिया पर भी इसका असर साफ देखा जा सकता है. कोई सरकार से कड़े से कड़े कदम उठाने की मांग कर रहा है तो कोई घटना के प्रति शोक व्यक्त कर रहा है. इसी बीच सोशल मीडिया पर इन दिनों एक व्हाट्सएप मैसेज और वीडियो काफी वायरल हो रहा है. दरअसल, यह वीडियो और मैसेज एक अफवाह है, जिसमें कहा गया है कि 'नोएडा में हाई अलर्ट घोषित है और पूरे नोएडा में धारा 144 लागू है. D-Mart में आतंकवादी बॉम्ब फिट करते हुए पकड़ा गया है. सभी थानों की पुलिस को निर्देश जारी किया गया है कि वह अपने इलाके के महत्वपूर्ण जगहों पर सुरक्षा बढ़ा दें और संदिग्धों पर नजर बनाए रखें.'

नोएडाः पुलवामा हमले पर कश्मीरी छात्र ने फेसबुक पर शेयर किया विवादित पोस्ट, कॉलेज ने किया निलंबित

वहीं इस मैसेज के साथ ही एक वीडियो भी शेयर किया गया है, जिसमें कुछ पुलिसवाले एक संदिग्ध को ले जाते दिख रहे हैं. हालांकि जब लोगों ने इस वीडियो को ध्यान से देखा तो सभी को यह पता चल गया कि यह किसी और राज्य का वीडियो है और यह काफी पुराना भी है, लेकिन इस तरह के Fake मैसेजेस और Videos के जरिए माहौल जरूर गंभीर हो गया. वहीं इस मामले में नोएडा पुलिस का कहना है कि 'यह गलत वीडियो है, जो गलत मैसेज के साथ शेयर किया जा रहा है. इसे गंभीरता से न लें. यहां इस तरह की कोई घटना नहीं घटी है.'

जम्मू-कश्मीरः पुलवामा में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच हुई मुठभेड़ में मेजर समेत सेना के 4 जवान शहीद

वैसे यह पहली बार नहीं है जब इस तरह की गलत और झूठी अफवाहें फैली हों, इससे पहले भी इस तरह की घटनाएं घट चुकी हैं, जब किसी और किसी गलत वीडियो के साथ किसी गलत मैसेज को शेयर किया जा चुका है. बता दें यह वीडियो पुलवामा में हुए आतंकी हमले के ठीक बाद शेयर किया गया है, जिसके बाद से इस वीडियो और मैसेज के चलते पहले तो कई लोग सोच में पड़ गए, लेकिन बाद में फिर लोगों को समझ आ गया कि यह एक गलत वीडियो है जो गलत मैसेज के साथ शेयर किया जा रहा है.