UP: धारा 144 के बावजूद नागरिकता कानून के खिलाफ सड़कों पर सपाई, लखनऊ में पुलिस ने चटकाई लाठियां

लखनऊ से लेकर गोरखपुर और अयोध्या से लेकर प्रयागराज तक सपाईयों ने कहीं जुलूस तो कहीं धरना दिया.

UP: धारा 144 के बावजूद नागरिकता कानून के खिलाफ सड़कों पर सपाई, लखनऊ में पुलिस ने चटकाई लाठियां
सपा कार्यकर्ताओं पर पहले पुलिस ने लाठियां चटकाई और फिर 20 से 30 कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया.

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में धारा 144 लागू होने के बावजूद नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ प्रदेश भर में गुरुवार को हजारों की संख्या में समाजवादी पार्टी कार्यकर्ता सड़कों पर उतरे. लखनऊ से लेकर गोरखपुर और अयोध्या से लेकर प्रयागराज तक सपाईयों ने कहीं जुलूस निकाला तो कहीं धरना दिया. उधर, लखनऊ में CAA का विरोध करना प्रदर्शनकारियों को भारी पड़ गया. विरोध कर रहे सपा कार्यकर्ताओं पर पहले पुलिस ने लाठियां चटकाई और फिर 20 से 30 कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया.

उधर, शाहजहांपुर में बिना अनुमति सपा कार्यकर्ताओं ने धरना प्रदर्शन किया. सपा जिला अध्यक्ष तनवीर खान की अगुआई में पार्टी कार्यकर्ताओं ने नागरिकता संसोधन एक्ट के खिलाफ जमकर हंगामा काटा. सपा कार्यकर्ताओं का कहना है कि नागरिकता संशोधन बिल वापस लिया जाए. बहराइच में भी सपा कार्यकर्ताओं ने धारा 144 का खुला उल्लंघन किया. सपाईयों का हुजूम सड़कों पर उतरा और केंद्र सरकार का जमकर विरोध किया.

अयोध्या में समाजवादी पार्टी के प्रदर्शन के साथ ही जनवादी नौजवान सभा के लोग सड़क पर उतरे. इस दौरान प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच जमकर नोंक-झोंक भी हुई. जिसके बाद पुलिस ने कई जनवादी सभा के कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया.

प्रयागराज में भी धारा 144 लागू होने के बावजूद सपा कार्यकर्ता जुलूस की शक्ल में जिलाधिकारी कार्यालय के लिए निकले. जिस पर उनकी पुलिस प्रशासन से झड़प भी हुई. प्रदर्शनकारी सपाईयों को काबू में करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज भी करना पड़ा. वहीं झड़प और हंगामे के दौरान एक आरएएफ जवान की उंगली कटने की भी बात सामने आई. जिन्हें इलाज के लिए निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. वहीं घंटों पुलिस और प्रदर्शनकारी सपा कार्यकर्ताओं के बीच झड़प होती रही. आखिर में पुलिस ने सैकड़ों की संख्या में सपा कार्यकर्ताओं को हिरासत में लेकर पुलिस लाइन भेजा. इस दौरान प्रदर्शनकारी केन्द्र और राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते रहे. प्रदर्शनकारियों की मांग थी की सीएए और एनआरसी को सरकार वापस ले, वरना इसका विरोध आगे औऱ भी ज्यादा होगा.

उधर, वाराणसी में NRC और CCA के खिलाफ समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने शास्त्री घाट पर धरना दिया. भारी संख्या में पहुंचे सपाईयों ने सरकार के विरोध में जमकर नारेबाजी भी की. प्रदर्शनकारियों ने कहा कि यूपी में कानून व्यवस्था ध्वस्त है. NRC और CAA लागू कर के सरकार ने पूरे देश में अराजकता का माहौल बना दिया है.

गोरखपुर में भी सपाईयों ने प्रदर्शन किया. इस दौरान भारी संख्या में पुलिस बल तैनात रहा. मीडिया से बात करते हुए गोरखपुर समाजवादी पार्टी के जिला अध्यक्ष प्रहलाद यादव ने बताया कि हमारी 18 सूत्रीय मांगे हैं. सपा कार्यकर्ताओं ने सीएए को काला कानून बताया और कहा कि ये संविधान की धारा 14 और 15 के विपरीत है. समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने कहा कि संविधान की मूल भावना की हत्या करके इस कानून को भारतीय जनता पार्टी की सरकार लाई है. समाजवादी पार्टी उसका विरोध करती है. 

नागरिकता संशोधन बिल के विरोध में समाजवादी पार्टी द्वारा प्रदेश व्यापी आव्हान के अंतर्गत  मथुरा में भी सपा कार्यकर्ताओं ने जिला मुख्यालय पर पहुंचकर केंद्र सरकार के विरोध में जमकर नारेबाजी की. इस दौरान धारा 144 का उल्लंघन करने वाले दो दर्जन से अधिक सपा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर पुलिस लाइन भेज दिया.