close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कैराना के बाद मेरठ के प्रह्लाद नगर मुहल्ले में लगे 'मकान बिकाऊ है' के बोर्ड

कैराना के बाद मेरठ के प्रह्लाद नगर मुहल्ले में 'मकान बिकाऊ है' के बोर्ड लग गए हैं. अपराध और छेडछाड़ जैसी घटनाओं के चलते प्रहलाद नगर के कई परिवारों का रहना दूभर हो गया है.

कैराना के बाद मेरठ के प्रह्लाद नगर मुहल्ले में लगे 'मकान बिकाऊ है' के बोर्ड
प्रह्लाद नगर के रहवासी भावेश मेहता ने नमो एप पर शिकायत दर्ज कराई थी....(फोटो साभार: ANI)

राजीव शर्मा.मेरठ: कैराना के बाद मेरठ के प्रह्लाद नगर मुहल्ले में 'मकान बिकाऊ है' के बोर्ड लग गए हैं. 1947 में देश की आजादी के दौरान बंटवारे का दंश देश के सभी मजहब के लोगों को झेलना पड़ा था. पाकिस्तान से मेरठ आए बहुत से पंजाबी परिवार, मेरठ के प्रहलाद नगर इलाके में उस दौरान टेंट बनाकर बस गए थे. जिसको जहां जगह मिली उसने वहीं कब्जा किया.

इसके बाद, धीरे-धीरे मेरठ का यह प्रहलाद नगर इलाका हिंदू पंजाबी मुहल्ले में तब्दील होता गया. समय के साथ इस मुहल्ले में बदलाव हुए. टेंटों का स्थान रिहायशी मकानों ने ले लिया. इस मुहल्ले के चारों ओर दूसरे सांप्रदाय के लोगों की रिहायशी बस्तियां बसी हुई हैं. आज अपराधों और छेडछाड़ जैसी घटनाओं के चलते प्रहलाद नगर के पंजाबी परिवारों का रहना दूभर हो गया है. मुहल्ले में अनेक मकान में 'मकान बिकाऊ है' का बोर्ड लगा है. 

मेरठ के इस मुहल्लेवासियों का आरोप है कि दिन निकलने के साथ ही दूसरे सांप्रदाय के युवा बाइकों पर तेज हॉर्न के साथ स्पीड से निकलते हैं. युवतियों पर फब्तियां कसना और मारपीट करना इन युवकों का शगल बन चुका है. जो मोहल्ला पहले कभी मेरठ की शान हुआ करता था आज उसी मुहल्ले में तरक्की पसंद व्यक्ति रहने को तैयार नहीं है.

2017 में जब विधानसभा चुनाव हुए थे उस दौरान पश्चिम उत्तर प्रदेश में हिंदुओं के पलायन की खबरें काफी सुर्खियों में थी. 2017 में ही बजरंग दल ने आरोप लगाया था कि कानून-व्यवस्था बिगड़ने के कारण देवबंद से सैकड़ों हिंदू परिवार पलायन कर गए थे. इसे भाजपा और उसके अन्य संगठनों ने कश्मीर से पंडितों के पलायन की तरह की घटना बताया था. खुद सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उस दौरान गोरखपुर के सांसद थे. योगी आदित्यनाथ ने उस दौरान मांग की थी कि इसकी केंद्रीय जांच होनी चाहिए क्योकि कानून-व्यवस्था बिगड़ने की वजह से पश्चिम यूपी के हिंदू भारी संख्या में पलायन कर रहे हैं.

दरअसल, गुरुवार को प्रह्लाद नगर के रहवासी भावेश मेहता ने नमो एप पर शिकायत दर्ज कराई थी. तभी से यह मामला सुर्खियों में आया. उन्होंने अपनी शिकायत में लिखा, "असामाजिक तत्व क्षेत्र में अशांति फैलाने की कोशिश कर रहे हैं. इसकी वजह से इलाके के लोग यहां से घर छोड़कर जा रहे हैं. मैं पीएम मोदी से प्रशासन को इस संबंध में उचित दिशा-निर्देश देने का अनुरोध करता हूं." 

ANI tweet

उधर, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मेरठ के आला अधिकारियों को मौके पर जाकर हिंदू परिवारों के पलायन की तहक़ीक़ात का दिया आदेश. मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से जांच के बाद पूरे मामले की रिपोर्ट पेश करने को कहा है.  

उत्तर प्रदेश के मेरठ के मोहल्ला प्रह्लाद नगर से हो रहे हिंदुओं के पलायन के मामले में जब जी मीडिया ने उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान से खास बातचीत की. उन्होंने इस पूरे मामले में कहा, "मुझे अभी पूरी जानकारी नहीं है लेकिन किसी को भी पलायन नहीं करने दिया जाएगा चाहे वह कोई भी धर्म के लोग हैं, कोई भी जाति के लोग हों. मुझे पूरा विश्वास है कि पुलिस प्रशासन अपना काम कर रहा होगा. यदि कानून व्यवस्था को लेकर कोई अन्य बात है तो किसी को भी पलायन जिले से गांव से नहीं करने दिया जाएगा. पूरी सुरक्षा उन लोगों को दी जाएगी और यदि कोई स्टंटबाजी वहां पर हो रही है, जो भी कर रहा है, उनके खिलाफ कार्यवाही बिल्कुल होगी किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा. जो भी नियम तोड़ेगा इस सरकार में उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी चाहे वह कितना ही बड़ा व्यक्ति क्यों न हो."

(इनपुट: विनीत अग्रवाल, अमरोहा)