फर्जी डिग्री पर नौकरी कर रही थीं तीन महिला टीचर, अब दर्ज हुआ मुकदमा

गौतमबुद्ध नगर जिले में फर्जी शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई की गई है. इन 3 शिक्षकों को फर्जी डिग्री के आधार पर काम करने का दोषी पाया गया है. कार्रवाई करते हुए उन्हें बर्खास्त कर दिया गया है. साथ ही उनके खिलाफ मामला भी दर्ज करवाया गया है.

फर्जी डिग्री पर नौकरी कर रही थीं तीन महिला टीचर, अब दर्ज हुआ मुकदमा
प्रतीकात्मक तस्वीर

गौतमबुद्ध नगर: गौतमबुद्ध नगर जिले में फर्जी शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई की गई है. इन 3 शिक्षकों को फर्जी डिग्री के आधार पर काम करने का दोषी पाया गया है. कार्रवाई करते हुए उन्हें बर्खास्त कर दिया गया है. साथ ही उनके खिलाफ मामला भी दर्ज करवाया गया है. इस मामले में पुलिस भी जांच कर रही है.

तीनों के पास डॉ. भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय, आगरा की फर्जी डिग्री थी. ये तीनों महिला शिक्षक हैं. ज्यादातर मामलों में आरोपियों से वेतन के तौर पर हुए भुगतान की वसूली भी की जा रही है. ये शिक्षिकाएं क्षेत्र के भट्टा गांव के प्राइमरी स्कूल में नियुक्त आशा कुमारी और चचूला गांव में नियुक्त सुषमा रानी हैं. दोनों की डिग्री फर्जी पाई गई फर्जी प्रमाणपत्रों के आधार पर कई वर्षों से नौकरी कर रही थीं. 

मंदिर की गौशाला से मिला नागा साधु का सिर कुचला शव, जमीन विवाद के चलते हुई हत्या

वहीं जेवर के खंड शिक्षा अधिकारी सुनील दत्त मुद्गल ने शिक्षिका संतोष कुमारी के खिलाफ केस दर्ज कराया है. करीब 20 दिन पहले इस बात का खुलासा होने पर इन तीनों को निलंबित कर दिया गया था. शनिवार देर शाम तीनों के खिलाफ संबंधित थानों में केस दर्ज कराए गए हैं.

धरी रह गई बिल्ली की होशियारी, video देख मुर्गों को सलाम करेंगे आप

उत्तर प्रदेश शासन द्वारा नियुक्त एसआईटी सभी शिक्षकों के दस्तावेजों की जांच कर रही है. एसआईटी की जांच में दोनों के कागजात फर्जी पाए गए हैं. दोनों शिक्षिकाओं ने डॉ. भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय, आगरा की फर्जी डिग्रियां लगाई थीं. उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा प्रदेश स्तर पर शिक्षकों के शैक्षिक प्रमाणपत्रों की जांच कराई जा रही है. इसमें गौतमबुद्ध नगर जिले की चार शिक्षिकाओं के शैक्षिक प्रमाण पत्र फर्जी मिले हैं.

WATCH LIVE TV