Coronavirus के आ गए नए लक्षण, पेट दर्द के लिए भी लें डॉक्टर्स से सलाह

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, महामारी की इस दूसरी वेव में नए सिंपटम्स सामने आ रहे हैं. कोरोना के अलग वेरिएंट जैसे डबल म्यूटेशन, साउथ अफ्रीका, UK, ब्राज़ील वेरिएंट जैसे टाइप सामने आ रहे हैं. जानें क्या हैं नए लक्षण...

Coronavirus के आ गए नए लक्षण, पेट दर्द के लिए भी लें डॉक्टर्स से सलाह

नई दिल्ली: कोरोनावायरस ने देश में एक बार फिर दहशत फैला दी है. संक्रमण की रफ्तार भी अब तेज होती जा रही है, जिस वजह से लोग चिंता में हैं. इस नए स्ट्रेन के लक्षण भी 2020 की महामारी से थोड़े अलग हैं. जानकारी के मुताबिक, इस बार कोरोना के पेशेंट्स में पेट दर्द, जोड़ों में दर्द, उल्टी, भूख में कमी और कमजोरी भी देखने को मिल रही है. 

ये भी पढ़ें: नहीं मिलेगी PM Kisan Samman Nidhi की 8वीं किस्त, अगर नहीं है इन पेपर्स में आपका नाम

देखने को मिल रहे हैं ये लक्षण
डॉक्टर्स का कहना है कि पेट में दर्द, कमजोरी उल्टी-दस्त की परेशानी लेकर चेकअप कराने आए लोगों में से करीब 40% ऐसे हैं, जो कोरोना संक्रमित हैं. जबकि अबतक सर्दी-खांसी, जुकाम-बुखार या सांस में दिक्कत को ही लोग कोरोना के लक्षण मानते थे. डॉक्टर्स का कहना है कि इन नए लक्षणों की वजह से लोगों को पता ही नहीं चलता कि वह कोरोनावायरस से संक्रमित हैं. इन लक्षणों को आम दिक्कत समझ कर लोग डॉक्टर्स के पास नहीं जाते और घरेलू नुस्खों से ही अपना इलाज करने लगते हैं. बहुत दिन तक जब वह ठीक नहीं हो पाते, तब जाकर डॉक्टर की मदद लेते हैं. लेकिन तब तक बॉडी को काफी नुकसान पहुंच जाता है. 

ये भी पढ़ें: UP Board: प्राइमरी स्कूलों के टीचर्स भी करेंगे बोर्ड में ड्यूटी, DIOS ने मांगी लिस्ट

कोरोना के आ चुके हैं कई वेरिएंट
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, महामारी की इस दूसरी वेव में नए सिंपटम्स सामने आ रहे हैं. कोरोना के अलग वेरिएंट जैसे डबल म्यूटेशन, साउथ अफ्रीका, UK, ब्राज़ील वेरिएंट जैसे टाइप सामने आ रहे हैं. हर वेरिएंट के लिए लक्षण भी अलग ही हैं. अब सामने आ रहा है कि महामारी में लोगों को पेट की दिक्कत हो रही है.

ये भी पढ़ें: Coronavirus Update: मुरादाबाद में भी 16 अप्रैल तक लग गया Night Curfew, ये होगी टाइमिंग

डॉक्टर्स के संपर्क में रहें मरीज
लोगों को डायरिया की परेशानी भी हो रही है. एक्सपर्ट्स का कहना है कि कोविड के पेशेंट्स को हमेशा डॉक्टर्स के कॉन्टैक्ट में रहना चाहिए. इससे अगर कभी उनकी तबियत बिगड़ती है तो उन्हें जल्द मेडिकल मदद मिल सकती है. साथ ही लोगों को यह समझाने की भी जरूरत है कि वैक्सीन के लिए झिझके नहीं, बल्कि कोरोना से बचाव के लिए टीका जरूर लगाएं.

WATCH LIVE TV