योगी सरकार ने रखा UP में 90 लाख रोजगार सृजित करने का लक्ष्य, 12 से 20 मई तक लगेगा लोन मेला

सीएम योगी एमएसएमई और वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट (ODOP) क्षेत्र की 90 लाख छोटी-बड़ी इकाइयों पर नजर बनाए हुए हैं. हर यूनिट में नए रोजगार सृजित कर राज्य में 90 लाख नए रोजगार पैदा करने का लक्ष्य रखा गया है. 

योगी सरकार ने रखा UP में 90 लाख रोजगार सृजित करने का लक्ष्य, 12 से 20 मई तक लगेगा लोन मेला
फाइल फोटो

लखनऊ: कोरोना संकट के चलते चरमराई अर्थव्यवस्था को एक बार फिर पटरी पर लाने के लिए योगी सरकार हर संभव कदम उठा रही है. उत्तर प्रदेश को लघु, छोटे और मझोले उद्योगों (MSME) का हब बनाने और उद्यमियों की मदद के लिए योगी सरकार ने 12 से 20 मई तक विशाल लोन मेले के आयोजन का फैसला किया है. इस मेले के जरिए उत्तर प्रदेश में उद्योग लगाने के इच्छुक लोग ऑनलाइन आवेदन कर लोन ले सकेंगे.

ये भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में हादसे में यूपी के श्रमिकों की मृत्यु पर सीएम योगी ने जताया दुख, लोगों से की ये अपील

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उद्योगपतियों और यूपी में उद्योग लगाने के इच्छुक अन्य लोगों को बड़ा ऑफर दिया. उन्होंने कहा है, 'उत्तर प्रदेश में आइए, तीन वर्ष में उद्योग लगाइए और प्रोडक्शन शुरू करने के 100 दिनों में सभी विभागों से अनापत्ति प्रमाण पत्र (NOC) प्राप्त कीजिए.'  रविवार को मुख्यमंत्री आवास पर टीम 11 के साथ हुई महत्वपूर्ण बैठक में सीएम योगी ने अधिकारियों को NOC की प्रक्रिया तेज करने के निर्देश दिए हैं. साथ ही योगी सरकार ने पर्यावरण नियमों को छोड़ बाकी सब नियमों को सरल कर दिया है. बैठक में अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि सब कुछ सही है तो तय सीमा के भीतर पर्यावरण समेत सभी NOC उद्योगों को दें.

सीएम योगी एमएसएमई और वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट (ODOP) क्षेत्र की 90 लाख छोटी-बड़ी इकाइयों पर नजर बनाए हुए हैं. हर यूनिट में नए रोजगार सृजित कर राज्य में 90 लाख नए रोजगार पैदा करने का लक्ष्य रखा गया है.

ये भी पढ़ें: शारजाह से उत्तर प्रदेश के 182 लोगों को लेकर लखनऊ पहुंची AIR INDIA की फ्लाइट

टीम-11 की बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उद्यमियों को आकर्षित करने के लिए अधिकारियों को कार्ययोजना तैयार करने के लिए भी कहा है. सीएम योगी ने कहा कि उनकी सरकार का लक्ष्य प्रदेश में उद्योग बढ़ाने के साथ ही प्रति व्यक्ति आय को भी बढ़ाना है. आपको बता दें कि सरकारी आंकड़ों के मुताबिक साल 2016 में उत्तर प्रदेश की प्रति व्यक्ति आय अपने निचले स्तर पर पहुंच गई थी. लेकिन, ओडीओपी, नई चीनी मिलों, पुरानी चीनी मिलों के क्षमता विस्तार, इन्वेस्टर समिट और डिंफेंस एक्सपो के आयोजन से तीन वर्षों में यूपी की प्रति व्यक्ति आय तेजी से बढ़ी है.