फ्रांस की आईटी कंपनी भारत में फ्रेशर्स के लिए निकालेगी 30 हजार बंपर भर्तियां

भारत में कंपनी के मुख्य कार्यकारी अश्विनी यारदी ने बताया कि भर्तियां मुख्य रूप से फ्रेशर्स और अनुभवी पेशवरों के लिए निकली जाएंगी. 

फ्रांस की आईटी कंपनी भारत में फ्रेशर्स के लिए निकालेगी 30 हजार बंपर भर्तियां
प्रतीकात्मक तस्वीर

मुंबई: फ्रांस की आईटी कंपनी कैपजोमिनी इस साल भारत में बंपर भर्तियां निकालने का विचार कर रही है. देश में व्यापार बढ़ाने के लिए कंपनी ने 30 हजार भर्तियां निकालने का फैसला कर रही है. भारत में कंपनी के मुख्य कार्यकारी अश्विनी यारदी ने बताया कि भर्तियां मुख्य रूप से फ्रेशर्स और अनुभवी पेशवरों के लिए निकली जाएंगी. उन्होंने बताया कि भारत में कंपनी के करीब 1.15 कर्मचारी हैं, जो कंपनी के कुल कार्यबल में आधे से भी ज्यादा है. 

यारदी ने कहा कि हमारे कारोबार के हिसाब से भारत खासा अहम बाजार है और हम इस साल कुल 25-30 हजार भर्तियां करेंगे. उन्होंने कहा कि वर्तमान में कंपनी भविष्य की तकनीक के लिहाज से कर्मचारियों के कौशल विकास पर ध्यान दे रही है और यह लगातार जारी रहने वाली प्रक्रिया हो गई है. वे बताते है कि प्रतिस्पर्धी कंपनियां जहां एक तरफ शोध एवं विकास गतिविधियों और पेटेंट फाइल करने पर जोर दे रही है, वहीं कैपजेमिनी ग्राहक केंद्रित सुधारों के सहारे नवाचार पर फोकस कर रही है. 

ऐसा पाया गया है कि 30 वर्ष तक की उम्र के युवा नया सीखने के लिए उत्सुक रहते हैं, जिनकी कुल कार्यबल में 65 फीसदी हिस्सेदारी है. कंपनी 10-15 साल तक अनुभव रखने वाले माध्यम स्तर के प्रबंधकों के लिए विशेष कार्यक्रम भी चला रही है, जिन्हें परियोजना प्रबंधक और आर्किटेक्ट के रूप में नियुक्त किया जाएगा. कंपनी के पुनर्गठन या छंटनी जैसा कोई कदम नहीं उठाया गया है. 

ये भी पढ़े:- NIT ने निकाली प्रोफेसर पद पर भर्तियां, 60 साल तक के उम्मीदवार कर सकते हैं अप्लाई 

वहीं अच्छी प्रतिभाओं को नियुक्त करने के लिए कंपनियों का भरोसा पेशेवर संगठनों पर बढ़ रहा है. इसके साथ ही वे सोशल मीडिया और रोजगार बेवसाइट के माध्यम से भर्तियां कर रही हैं. बीते रविवार को जारी अध्यनन में यह बात सामने आई है. भारत के रोजगार बाजार में जारी रुझानों पर नजर रखने वाली फार्म सीआईईएल एचआर सर्विसेज के मुताबिक, अब कनिष्ठ, मध्यम और वरिष्ठ पदों पर प्रतिभाओं को खोजने के लिए नियुक्ति कंपनियों की मदद ले रही हैं. 

सीआईईएल एचआर सर्विसेज के आदित्य नारायण मिश्रा ने कहा कि कंपनियां धीरे-धीरे नियुक्ति एजेंसियों की ओर रुख कर रही हैं क्योंकि वे उचित और गुणवत्तापूर्ण प्रतिभाओं की खोज और चयन में लगने वाला समय कम करना चाहती हैं