21 दिन लॉकडाउन: टेंशन फ्री Work from home के हम बता रहे हैं अचूक रामबाण तरीके

काम करने के घंटे तय करना बेहद जरुरी है.

21 दिन लॉकडाउन: टेंशन फ्री Work from home के हम बता रहे हैं अचूक रामबाण तरीके
फाइल फोटो

नई दिल्ली:  कोरोना वायरस (Corona Virus) से बचाव लिए मंगलवार रात जब प्रधानमंत्री ने अगले 21 दिनों के लिए लॉकडाउन का ऐलान किया तो ज्यादातर कामकाजी लोगों के मन में सिर्फ एक ही सवाल था. आखिर अगले तीन हफ्ते कैसे घर से काम कैसे होगा? वर्क फ्रम होम (WFH) अपने आप में चैलेंज है. ऐसे वक्त जब इतने लंबे समय तक कम ब्रेक और अटपटे माहौल में ऑफिस का काम करना पड़े. तो आज हम आपको दे रहे हैं कुछ टिप्स जिनकी मदद से ये 21 दिन टेंशन फ्री काम कर सकेंगे.

घर और ऑफिस में तालमेल
शुरू-शुरू में WFH काफी ठीक लगता है. लेकिन कुछ दिनों बाद WFH को लेकर सारा उत्साह कम पड़ता जाता है. जूम और स्काईप मीटिंग्स के अलावा आपकी कोई सोशल गैदरिंग नहीं होती. आप आईसोलेटेड हो जाते हैं. वर्क-लाईफ बैलेंस का तो पूछिये मत. अगर आपके काम का डेडलाइन फ्लैक्सिबल है तो फिर आप रात बारह बजे तक भी काम करेंगे और सुबह आठ बजे भी उठकर खुद को काम करते पायेंगे. काम और निजी जिन्दगी में कोई बारीक भर का भी स्पेस नहीं बचेगा. और ऐसा भी नहीं है कि आपकी प्रोडक्टिविटी बढ़ जाती है.

ये हैं उपाय
पिछले कई महीनों से वर्क फ्रम होम करने वाले ग्रीनपीस के सीनियर कैंपेनर अविनाश चंचल का कहना है कि WFH दफ्तर से भी ज्यादा अनुशासन की मांग करता है. सबसे पहले अपने काम करने की जगह फिक्स कीजिए. हो सके तो एक मेज और कुर्सी डालिये. काम करने के घंटे तय करना बेहद जरुरी है. बीच बीच में ब्रेक लेकर चाय बनायें. चाय पीते हुए या खाना खाते हुए काम को रोक दें. पसंद के गीत सुने. देर रात काम करने से बचें और काम करते हुए शराब का सेवन तो बिल्कुल न करें.

स्टार्टअप में काम करने वालों का सुझाव है कि WFH को नहीं नहाने का बहाना मत बनायें. जितना तैयार होकर दफ्तर जाते हैं, उतनी ही तैयारी के साथ काम के टेबल पर भी बैठें. अपने कैंलेडर अपटूडेट रखें. वीकेंड में कम से कम काम करने से बचें. पानी पीते रहें और बिस्तर से दूर रहें.

ये भी पढ़ें- नवरात्रि की पहली अच्छी खबर: अमेरिका में तैयार हुआ Coronavirus का टीका! आ रहे शानदार नतीजे

ज्यादातर लोगों का कहना है कि अपने पसंद की चीजों के लिये अलग से समय निकालें, काम के घंटे में उसे मिक्स न करें. रोज कसरत, योगा, मेडिटेशन वगैरह के लिये भी समय निकालते रहें.