2 फरवरी को देहरादून पहुंचेंगे अमित शाह, 'त्रिशक्ति सम्मेलन' को करेंगे संबोधित

लोकसभा चुनावों के लिए दो फरवरी को औपचारिक रूप से चुनाव प्रचार का शंखनाद करने से पहले पार्टी की प्रदेश इकाई ने यहां परेड ग्राउंड में भूमि पूजन किया.

2 फरवरी को देहरादून पहुंचेंगे अमित शाह, 'त्रिशक्ति सम्मेलन' को करेंगे संबोधित
अमित शाह के उत्तराखंड दौरे का मुख्य उद्देश्य लोकसभा चुनावों से पहले पार्टी कैडर में जोश और उत्साह का संचार करना है. (फाइल फोटो)

देहरादून: बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के उत्तराखंड में आगामी लोकसभा चुनावों के लिए दो फरवरी को औपचारिक रूप से चुनाव प्रचार का शंखनाद करने से पहले पार्टी की प्रदेश इकाई ने यहां परेड ग्राउंड में भूमि पूजन किया. इस जगह पर शाह चुनावों से पहले जमीनी स्तर पर पार्टी में जोश भरने के लिए बूथ स्तर के बीजेपी कार्यकर्ताओं की बैठक 'त्रिशक्ति सम्मेलन' को संबोधित करेंगे. त्रिशक्ति का मतलब बूथ स्तर के पार्टी कार्यकर्ताओं के तीन स्तरों से हैं जिनमें बूथ अध्यक्ष, बूथ पालक और बूथ लेवल एजेंट शामिल हैं.

समारोह के बाद बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने संवाददाताओं से कहा कि कोई भी नया काम शुरू करने से पहले भगवान को याद करने की हमारी सदियों पुरानी परंपरा के तहत ही यह भूमि पूजन किया गया है. पार्टी अध्यक्ष के दो फरवरी को होने वाले दौरे के लिए यह पूजन बिल्कुल सही है. जब वह राज्य में आगामी लोकसभा चुनावों के प्रचार की औपचारिक शुरूआत करेंगे.

अमित शाह के उत्तराखंड दौरे का मुख्य उद्देश्य लोकसभा चुनावों से पहले पार्टी कैडर में जोश और उत्साह का संचार करना है, जहां बीजेपी के सामने 2014 की तरह राज्य की पांचों लोकसभा सीटें जीतने की चुनौती के साथ ही 2017 में विधानसभा चुनावों में 70 में से 57 पर विजय हासिल करने के अपने जबरदस्त प्रदर्शन को दोहराने का भी दबाव भी है. 

मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ और राजस्थान जैसे हिंदी भाषी राज्यों में जीतने से कांग्रेस को मिली संजीवनी के बाद उत्तराखंड में पांचों लोकसभा सीटों को अपने कब्जे में रखने के लिए बीजेपी कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहती है. प्रदेश पार्टी मीडिया प्रभारी डॉ देवेंद्र भसीन ने बताया कि बीजेपी अध्यक्ष शाह का यह दौरा प्रचार कार्यक्रम की श्रृंखला की शुरूआत है, जिसमें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा और केंद्रीय मंत्री वीके सिंह जैसे पार्टी के कई वरिष्ठ नेता अगले 10 दिनों में राज्य के विभिन्न हिस्सों में कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे और जनता को संबोधित करेंगे.