close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अकबरपुर लोकसभा सीट: कांग्रेस प्रत्याशी राजाराम पाल ने वोट देते समय जमकर तोड़े नियम

कानपुर जिले की अकबरपुर लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी राजाराम पाल मतदान के दिन अजीबोगरीब तरीके से अपना प्रचार करने के चक्कर में बुरी तरह फंस गये.

अकबरपुर लोकसभा सीट: कांग्रेस प्रत्याशी राजाराम पाल ने वोट देते समय जमकर तोड़े नियम
अब देखना है कि इन तस्वीरों के सामने आने के बाद चुनाव आयोग को क्या कोई शिकायत जाती है.

अकबरपुर: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) के चौथे चरण के लिए 9 राज्यों की 71 सीटों पर जारी मतदान सोमवार देर शाम समाप्त हो गया. इन सबके बीच कानपुर जिले की अकबरपुर लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी राजाराम पाल मतदान के दिन अजीबोगरीब तरीके से अपना प्रचार करने के चक्कर में बुरी तरह फंस गये. उन्होंने मतदान बूथ के पीछे खड़े होकर अपनी फोटो खिंचवाई और फिर उसी क्रम में कांग्रेस के चुनाव चिन्ह हाथ का बटन दबाते हुए दूसरी फोटो भी खिंचवाई. बताया जा रहा है कि ये दोनों फोटो उन्होने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर भी अपलोड की.

कांग्रेस प्रत्याशी राजाराम पाल ने मतदाताओं से अपील की कि ईवीएम पर तीसरे नंबर वाला बटन दबाकर उन्हें वोट दें. हालांकि, कुछ ही देर बाद उन्होंने यह तस्वीरें हटाते हुए मतदान केंद्र के बाहर अपने समर्थकों के साथ उंगली पर लगी स्याही दिखाते हुए एक अन्या फोटो शेयर की. अभी इस बात की पुष्टि नहीं हो सकी है कि राजाराम पाल ने उक्त दोनो तस्वीरें फेसबुक पर पहले अपलोड की थीं या नहीं. और क्या उन्हें बाद में डिलीट किया गया. लेकिन, उनकी ये तस्वीरें सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रही है. 

राजाराम पाल यहां एक और नियम का उल्लंघन करते दिखाई पड़ते हैं. दरअसल, उन्होंने अपने हाथ में मोबाईन फोन भी पकड़ा हुआ है और उसकी स्क्रीन चमक रही है. ये इस बात का स्पष्ट संकेत है कि उन्होंने अपना मोबाईल फोन वोट देते समय ऑन रखा हुआ था. वहीं, सोमवार को जिलाधिकारी ने ज़ी मीडिया को दिये बयान में साफ किया था कि मतदाता पोलिंग सेंटर पर अपना मोबाईल फोन स्विच ऑफ मोड पर रखकर ही साथ ले जा सकते हैं. राजाराम पाल दो बार लोकसभा सदस्य रह चुके हैं ऐसे में उनकी ये हरकतें अजीब और नासमझी वाली ही कही जायेगी. अब देखना है कि इन तस्वीरों के सामने आने के बाद चुनाव आयोग को क्या कोई शिकायत जाती है.