close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव 2019: जानें क्या है नामक्कल लोकसभा सीट का इतिहास?

तमिलनाडु की नामक्कल लोकसभा सीट पर अभी तक 2 चुनाव हुए हैं, जिसमें एक बार DMK तो एक बार एआईएडीएमके को जीत मिली है.

लोकसभा चुनाव 2019: जानें क्या है नामक्कल लोकसभा सीट का इतिहास?
2014 के लोकसभा चुनाव में एआईएडीएमके के पीआर सुंदरम ने DMK प्रत्याशी गांधी सेलवम को 2,94,374 वोटों के अंतर से हराया था.

नई दिल्लीः सेलम जिले में आने वाली तमिलनाडु की नामक्कल लोकसभा सीट 2008 में परिसीमन के बाद अस्तित्व में आई. यहां साल 2009 में हुए चुनाव में डीएमके के गांधी सेलवन को जीत मिली और वह यहां से पहले सांसद चुने गए. अब तक इस सीट पर दो बार लोकसभा चुनाव हो चुके हैं, एक बार डीएमके तो दूसरी बार एआईएडीएमके के प्रत्याशी को जीत हासिल हुई है. नामक्कल लोकसभा सीट से वर्तमान सांसद एआईएडीएमके के पीआर सुंदरम (P.R. Sundaram) हैं, जिन्होंने 2014 के लोकसभा चुनाव में DMK के गांधी सेलवम को हराया था.

नामक्कल में मतदाता
साल 2011 के आंकड़े के अनुसार तमिलनाडु की नामक्कल सीट पर कुल 13,29,552 मतदाता हैं. जिनमें 6,61,113 पुरुष मतदाता और 6,68,439 महिला मतदाता हैं.

2014 के लोकसभा चुनाव
2014 के लोकसभा चुनाव में एआईएडीएमके के पीआर सुंदरम ने DMK प्रत्याशी गांधी सेलवम को 2,94,374 वोटों के अंतर से हराया था. एक ओर जहां पीआर सुंदरम को इस चुनाव में 5,63,272 वोट मिलें तो वहीं DMK प्रत्याशी गांधी सेलवम को 2,68,898 वोट ही मिले. जिसके चलते उन्हें बड़े मतों के अंतर से हार का सामना करना पड़ा.