close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बीजेपी और कांग्रेस के घोषणा पत्र में हैं ये 4 मुख्य अंतर, आधे मिनट में समझें

पाठकों की सुविधा का ख्याल रखते हुए हम दोनों पार्टियों के घोषणापत्र की 4 बिंदुओं पर तुलना कर रहे हैं. साथ ही नीचे आप दोनों की पार्टियों का पूरा घोषणा पत्र एक नजर में पढ़ सकते हैं.

बीजेपी और कांग्रेस के घोषणा पत्र में हैं ये 4 मुख्य अंतर, आधे मिनट में समझें
कांग्रेस और बीजेपी के घोषणा पत्र में किए गए वादों की तुलना करके जनता को वोट देना है.

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok sabha elections 2004) को लेकर देश की दोनों प्रमुख पार्टियों कांग्रेस और बीजेपी ने अपना घोषणा पत्र जनता के सामने रख दिया है. दोनों ने पार्टियों ने वादों का लिखित पत्र पेश कर दिया है. वादों के जरिए अपने-अपने हिसाब से जनता को लुभाने की कोशिश की गई है. ऐसे में जनता बीजेपी और कांग्रेस के घोषणा पत्र में तुलनात्मक अंतर तलाश रही है. पाठकों की सुविधा का ख्याल रखते हुए हम दोनों पार्टियों के घोषणापत्र की 4 बिंदुओं पर तुलना कर रहे हैं. साथ ही नीचे आप दोनों की पार्टियों का पूरा घोषणा पत्र एक नजर में पढ़ सकते हैं.

बीजेपी का घोषणा पत्र की अहम बातें
बीजेपी का संकल्प पत्र (घोषणा पत्र) प्रस्तुत करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश को सभी क्षेत्रों में मजबूत बनाने में ‘राष्ट्रवाद हमारी प्रेरणा, अन्त्योदय दर्शन और सुशासन मंत्र’ की तरह है. मोदी ने जोर दिया कि 2047 में आजादी के 100 वर्ष पूरे होने पर देश की युवा शक्ति नये भारत का आधार बनेगी. उन्होंने कहा कि गांव, गरीब और किसान उनकी सरकार के कार्यों के केंद्र में हैं.

लोकसभा चुनाव 2019 के लिये भाजपा का संकल्प पत्र जारी करने के बाद प्रधानमंत्री ने कहा, ‘हमारा संकल्प पत्र, सुशासन पत्र भी है. राष्ट्र की सुरक्षा का पत्र भी है. राष्ट्र की समृद्धि का पत्र भी है.’

उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि 2022 में जब आजादी के 75 साल होंगे तब आजादी की जंग लड़ने वाले महापुरूषों के सपनों का भारत बनाने के लिए हमने 75 लक्ष्य तय किये हैं.

कांग्रेस के घोषणापत्र में 22 लाख सरकारी नौकरी और 72 हजार रुपए का वादा

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में कहा है कि 'हम निभाएंगे' के वादे के साथ कांग्रेस ने न्यूनतम आय योजना, किसानों के लिए अलग बजट, 22 हजार नौकरी, स्वास्थ्य आदि जुड़े 52 घोषणाएं की गई हैं. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी पार्टी कई वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में इसे जारी किया. कांग्रेस घोषणा पत्र कमेटी के सदस्यों पी चिदंबरम, एके एंटनी, मनमोहन सिंह और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी भी शामिल रहे हैं. कांग्रेस के घोषणा पत्र का नाम 'हम निभाएंगे' रखा है.