close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राहुल गांधी ने कहा, अगर सत्ता में आए तो खत्म करेंगे नीति आयोग

राहुल गांधी ने कहा, 'अगर सत्ता में आए तो हम नीति आयोग को खत्म करेंगे. प्रधानमंत्री के लिए मार्केटिंग की प्रस्तुति देने और आंकड़ों में हेरफेर करने अलावा इससे कोई मकसद हल नहीं हुआ.'

राहुल गांधी ने कहा, अगर सत्ता में आए तो खत्म करेंगे नीति आयोग
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (फाइल फोटो साभार - @INCIndia)

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव से पहले शुक्रवार को बड़ा वादा करते हुए कहा कि उनकी पार्टी की सरकार बनी तो नीति आयोग को खत्म किया जायेगा और इसके स्थान पर एक छोटे आकार वाला योजना आयोग बनाया जाएगा जिसमें जानेमाने अर्थशास्त्री एवं विशेषज्ञ शामिल होंगे.

राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, ' अगर सत्ता में आए तो हम नीति आयोग को खत्म करेंगे. प्रधानमंत्री के लिए मार्केटिंग की प्रस्तुति देने और आंकड़ों में हेरफेर करने अलावा इससे कोई मकसद हल नहीं हुआ. ' उन्होंने कहा, 'नीति आयोग के स्थान पर हम एक छोटा योजना आयोग बनाएंगे जिसके सदस्य जानेमाने अर्थशास्त्री और विशेषज्ञ होंगे. इसमें 100 से कम कर्मचारी होंगे.' गौरतलब है कि 2014 में सरकार में आने के बाद नरेंद्र मोदी सरकार ने योजना आयोग के स्थान पर नीति आयोग बनाया था.

'मोदी के 15 लाख रूपये के वादे से न्यूनतम आय योजना का विचार आया'
इससे पहले राहुल गांधी ने शुक्रवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले ‘15 लाख रुपये के वादे’ से उन्हें गरीबों के लिए न्यूनतम आय योजना का विचार मिला . यमुनानगर जिले के जगाधरी शहर में आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल ने कहा, 'उन्होंने प्रत्येक भारतीय के बैंक खाते में 15 लाख रुपये जमा कराने का वादा किया था . क्या किसी को कुछ मिला .' 

उन्होंने कहा, 'सच ये है कि जब हमारी सरकार बनेगी तो देश के 20 फीसदी गरीबों के खाते में हर साल 72 हजार रूपये जमा कराये जायेंगे . मोदी ने प्रत्येक भारतीय के खाते में 15 लाख रुपये देने के बारे में झूठ बोला . हालांकि, मुझे लगता है कि गरीबों के खाते में धन जमा कराने का विचार सही है अगर इसे ईमानदारी से लागू किया जाए.' 

राहुल ने कहा, 'मुझे यह विचार अच्छा लगा . मैने कांग्रेस पार्टी के थिंकटैंक से बातचीत की और उन्हें मोदी के 15 लाख रूपये के वादे के बारे में बताया और कहा कि उन्होंने इसे पूरा नहीं किया . उन्होंने जो किया वह किसानो के साथ अन्याय है . नोटबंदी कर उन्होंने छोटे दुकानदारों को प्रभावित किया और गब्बर सिंह टैक्स लेकर आए .' 

उन्होंने जोर देकर कहा कि उन्होंने पार्टी के थिंकटैंक से कहा कि वह एक ऐसी योजना लेकर आये जिससे गरीबों को लाभ हो . उन्होंने कहा, ‘‘यह (न्याय) ऐतिहासिक है . यह इतनी ऐतिहासिक है कि आपने पिछले दो तीन दिन टीवी पर नरेंद्र मोदी का चेहरा देख होगा, वह हिल गए हैं .’’ 

राहुल ने दावा किया कि प्रधानमंत्री ने 15 उद्योगपतियों के साढे तीन लाख करोड़ रूपये का कर्ज माफ कर दिया . उन्होंने कहा कि मोदी अमीरों की रक्षा करते हैं . मोदी अमीरों के साथ न्याय करते हैं.