close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

...तो क्या ललन सिंह से हारने के बाद बाहुबली अनंत सिंह ले लेंगे राजनीतिक संन्यास?

विधायक अनंत सिंह चुनाव से पहले यह दावा कर रहे थे कि वह किसी भी हाल में मुंगेर लोकसभा सीट पर जीत दर्ज करेंगे. 

...तो क्या ललन सिंह से हारने के बाद बाहुबली अनंत सिंह ले लेंगे राजनीतिक संन्यास?
अनंत सिंह ने मुंगेर लोकसभा सीट पर जेडीयू को हराने की प्रतीज्ञा ली थी. (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः लोकसभा चुनाव 2019 में बिहार में महागठबंधन को कड़ी शिकस्त मिली है. वहीं, मुंगेर सीट पर जीत का दावा करने वाले बाहुबली अनंत सिंह को बड़ा झटका लगा है. मुंगेर लोकसभा सीट पर अनंत सिंह की पत्नी नीलम देवी कांग्रेस की टिकट से चुनाव लड़ रही थी. लेकिन उन्हें यहां जेडीयू उम्मीदवार ललन सिंह से कड़ी शिकस्त मिली है.

विधायक अनंत सिंह चुनाव से पहले यह दावा कर रहे थे कि वह किसी भी हाल में मुंगेर लोकसभा सीट पर जीत दर्ज करेंगे. उन्होंने मुंगेर सीट पर एनडीए के किसी भी प्रत्याशी को धुल चटाने की प्रतीज्ञा ली थी. उनका कहना था कि अगर मुंगेर लोकसभा सीट से जीत नहीं दर्ज कर पाया तो राजनीति और बिहार दोनों छोड़ दूंगा.

मोकामा विधायक अनंत सिंह उर्फ छोटे सरकार नीतीश कुमार और एनडीए के खिलाफ ताल ठोकी थी. पहले उन्होंने खुद मुंगेर सीट से चुनाव लड़ने का फैसला किया. उन्होंने कहा था कि उन्हें अगर महागठबंधन से टिकट नहीं मिली तो वह निर्दलीय भी चुनाव लड़ेंगे. हालांकि बाद में उन्होंने अपनी पत्नी को कांग्रेस की टिकट पर खड़ा किया.

उन्होंने चुनाव से पहले और प्रचार में भी कहा कि वह मुंगेर में जेडीयू के कैंडिडेट की जमानत जब्त कराकर रहेंगे. साथ ही उन्होंने प्रतिज्ञा लेते हुए कहा मुंगेर सीट पर चुनाव नहीं जीते तो राजनीति छोड़ देंगे और बिहार भी छोड़ देंगे.

अब लोकसभा चुनाव के नतीजे आ गए हैं और मुंगेर लोकसभा सीट पर उन्हें जेडीयू प्रत्याशी ललन सिंह से कड़ी शिकस्त मिली है. मुंगेर सीट पर अनंत सिंह ने जीत के लिए पूरी ताकत झोंक दी थी. लेकिन उन्हें फिर भी डेढ़ लाख से अधिक वोटों से हार का सामना करना पड़ा. उनकी पत्नी नीलम देवी को यहां 3,59,303 वोट मिले जबकि ललन सिंह को 5,25,519 वोट प्राप्त हुए. मुंगेर में नीलम देवी को 1,66,216 वोटों से हार का सामना करना पड़ा.

बहरहाल, अब देखना यह है कि ललन सिंह अपनी प्रतिज्ञा को निभाते हैं या फिर वह एक नए सिरे से अपनी राजनीति शुरू करेंगे. और इस हार का बदला वह किस तरह से लेंगे.