पाकिस्तान ने LoC पर फिर किया सीजफायर का उल्लंघन, दागीं 7000 गोलियां

बीती रात पाकिस्तान ने एक बार फिर नियंत्रण रेखा पर संघर्ष विराम का उल्लंघन करते हुए सरहद पर गोलीबारी की है। भारतीय सेना ने भी जवाबी कार्रवाई की है।

ज़ी मीडिया ब्यूरो/एजेंसी
जम्मू : पांच भारतीय सैनिकों की हत्या के बाद सीमा पर बढ़े तनाव के बीच पाकिस्तानी सैनिकों ने जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा पर स्थित भारतीय चौकियों पर बीती रात करीब सात घंटे तक मोर्टार और भारी हथियारों से 7000 गोलियां दागकर एक बार फिर संघर्ष विराम का उल्लंघन किया।
भारतीय सेना ने इसे हाल के समय में ‘ संघर्ष विराम का सबसे बड़ा उल्लंघन’ करार दिया है। इससे चार ही दिन पहले पाकिस्तानी सेना के विशेष सैन्य दल के हमले में पांच भारतीय जवान शहीद हुए थे। भारतीय सेना ने प्रभावी ढंग से जवाबी कार्रवाई की। इस दौरान किसी प्रकार के जान माल का नुकसान नहीं हुआ।
रक्षा विभाग के प्रवक्ता एस.एन. आचार्य ने आज कहा, ‘पाकिस्तानी सेना ने कल रात करीब 10 बजकर 20 मिनट पर पुंछ जिले के दुर्गा बटालियन इलाके में नियंत्रण रेखा पर स्थित कई भारतीय चौकियों पर अकारण गोलीबारी की।’ उन्होंने कहा, ‘उन्होंने तड़के करीब साढ़े चार बजे तक कई भारतीय चौकियों को निशाना बनाकर मध्यम मोर्टार और भारी हथियार पिका से 7000 गोलियां दागीं ताकि भारी क्षति पहुंचाई जा सके।’
आचार्य ने बताया कि सीमा रेखा की रक्षा कर रहे भारतीय सैन्य बलों ने मोर्चा संभालते हुए प्रभावी ढंग से जवाबी कार्रवाई में और आईएनएसएएस रायफलों, केपीडब्ल्यूटी मशीन गनों और मीडियम मशीन गन (एमएमजी) से 4595 गोलियां दागने के अलावा 111 आरपीजी, 11 रॉकेट और 81 एमएम के 18 मोर्टार गोले दागे। उन्होंने बताया कि सीमा पार गोलीबारी में किसी प्रकार के जान माल की हानि नहीं हुई है। सीमा रेखा पर तनाव बढ़ गया है।
पुंछ शहर में गोलीबारी और मोर्टार धमाके की आवाजें़ सुनाई दीं और दोनों ओर से गोलीबारी होने के कारण इलाके के लोग दहशत में आ गए। गौरतलब है कि पाकिस्तानी सेना के नेतृत्व में 20 हथियारबंद लोगों के समूह ने छह अगस्त को पुंछ सेक्टर में भारत की सीमा में 450 मीटर तक प्रवेश करके घात लगाकर हमला किया था जिसमें भारतीय सेना के पांच जवान शहीद हो गए थे।
नियंत्रण रेखा पर पिछले सप्ताह भारतीय जवानों की हत्या के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया है। इस घटना का असर भारत-पाकिस्तान वार्ता की बहाली पर भी दिख सकता है। भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ के अगले माह न्यूयार्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा सम्मेलन के इतर मिलने की योजना है। पुंछ सेक्टर में पाकिस्तानी सैन्य बलों के आठ जनवरी को किए गए हमले के पश्चात दो भारतीय सैनिकों के शव मिलने के बाद वार्ता प्रक्रिया रोक दी गई थी।