राजपुताना राइफल्‍स के जवानों ने साथियों की मौत पर छोड़ा खाना-पीना

भारत-पाकिस्‍तान सीमा पर नियंत्रण रेखा के निकट पाक सैनिकों के हमले में दो जवानों की हत्या से उनके रेजिमेंट के जवानों में बेहद आक्रोश है। इस घटना की बर्बरता से पूरे देश के लोगों में उबाल है।

ज़ी न्‍यूज ब्‍यूरो

नई दिल्‍ली : भारत-पाकिस्‍तान सीमा पर नियंत्रण रेखा के निकट पाक सैनिकों के हमले में दो जवानों की हत्या से उनके रेजिमेंट के जवानों में बेहद आक्रोश है। इस घटना की बर्बरता से पूरे देश के लोगों में उबाल है।
शहीद हुए दोनों जवान राजपुताना राइफल्स के थे। इस रेजिमेंट के एक हजार जवानों ने अपने साथियों को खोने के गम में दो दिन से खाना नहीं खाया है। गुस्से से भरे सीमा पर तैनात 13 राजपुताना राइफल्स रेजीमैंट के जवान अपने साथियों की मौत से काफी आहत हैं और वे बार-बार अपने अधिकारियों से कार्रवाई की गुहार लगा रहे हैं। वह बदले की आग में झुलस रहे हैं और इस हमले के खिलाफ कार्रवाई को अंजाम देने को आतुर हैं।
इस रेजिमेंट के जवानों का कहना है कि वे जब तक बदला नहीं ले लेंगे, अनाज का एक दाना भी नहीं खाएंगे। गौर हो कि 13 राजपुताना राइफल्स के दो जवान हेमराज और सुधाकर सिंह पाकिस्तानी सेना के हमले में शहीद हो गए। पाक सैनिकों ने काफी बर्बरता की और उनके गले तक काटे गए। पाक सैनिक हेमराज का सिर भी अपने साथ ले गए। इस घटना के बाद पूरे में जबरदस्‍त आक्रोश फैल गया है।