close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

34 हजार के सिक्कों के साथ कुटुंब न्यायालय पहुंचा पति, जज ने माना पत्नी को प्रताड़ित करने का तरीका

जज ने जैसे ही युवक द्वारा बोरियों में लाए सिक्के देखे उन्होंने इसे पत्नी को प्रताड़ित करने का तरीका बताते हुए युवक को कहा कि वह खुद इन सिक्कों की गिनती करेगा और पत्नी तक पहुंचाएगा.

34 हजार के सिक्कों के साथ कुटुंब न्यायालय पहुंचा पति, जज ने माना पत्नी को प्रताड़ित करने का तरीका
जज ने पैसे पहुंचने के बाद मिली पावती को कोर्ट में जमा करने के निर्देश भी दिए हैं.

रायपुरः जांजगीर-चांपा जिले में एक व्यक्ति कुटुंब न्यायालय के फैसले के बाद पत्नी को भरण-पोषण की राशि देने के लिए 5 बोरियों में 33 हजार 800 के सिक्के लेकर पहुंचा इसमें एक, दो और 5, 10 के सिक्के शामिल थे. इन सिक्को का वजन लगभग 1 क्विंटल था. ऐसे में जज ने जैसे ही युवक द्वारा बोरियों में लाए सिक्के देखे उन्होंने इसे पत्नी को प्रताड़ित करने का तरीका बताते हुए युवक को कहा कि वह खुद इन सिक्कों की गिनती करेगा और पत्नी तक पहुंचाएगा.

यही नहीं जज ने पैसे पहुंचने के बाद मिली पावती को कोर्ट में जमा करने के निर्देश भी दिए हैं. बता दें व्यक्ति ने सिर्फ पत्नी ही नहीं बल्कि वकील की फीस भी सिक्कों के रूप में अदा की है. यह पूरा मामला कुटुंब न्यायालय जांजगीर का है, जहां युवक को पत्नी का भरण-पोषण करने के लिए पत्नी कोर्ट ने पति को रुपये अदा करने को कहा था, जिस पर युवक 5 बोरियों में सिक्के लेकर पहुंच गया.

देखें लाइव टीवी

मिलिए इस खास भैंस से, जिसके प्रेग्नेंट होने पर पूरा राज्य मना रहा है उत्सव

दरअसल, पामगढ़ थाना क्षेत्र के कोसला के पूनी राम साहू की शादी नवागढ़ थाना क्षेत्र की यशोधरा साहू के साथ हुई थी दोनों की 4 बेटियां हैं तीन  की शादी हो चुकी है. पति पत्नी के बीच विवाद होने पर करीब 20 साल पहले अलग हो गए थे. इस बीच का मामला परिवार परामर्श केंद्र में चला गया.

पति नहीं करता शेविंग, सप्‍ताह में एक बार नहाता है, बदबू से परेशान पत्‍नी ने मांगा तलाक

यह समझौता नहीं होने पर कुटुंब न्यायालय जांजगीर में मामला भेजा गया इसके बाद पुनी राम को प्रतिमाह 3700 भरण पोषण देने का आदेश मिला किन्ही कारणों से वह पिछले 8 महीने से भरण-पोषण की राशि नहीं दे पाया था. और कल अचानक 33 हजार 800 रुपये सिक्कों के रूप में लेकर वह कुटुंब न्यायालय पहुंचा जिसे देख कर सभी को अचरज भी हुआ और जज ने उसे पत्नी के घर तक पहुंचाने का आदेश दिया.