close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

CPC के प्रभावशाली नेता ने कहा, 'सोवियत संघ के विघटन से सीख ले चीन की कम्युनिस्ट पार्टी

हू डेपिंग ने कहा, ‘(सोवियत के शासकों की ओर से की गई) घातक गलतियों में से एक यह थी कि उन्होंने बहुत ही केंद्रीकृत सत्ता वाली राजनीतिक व्यवस्था का पालन किया. हर समाजवादी देश ऐसा नहीं करता.’

CPC के प्रभावशाली नेता ने कहा, 'सोवियत संघ के विघटन से सीख ले चीन की कम्युनिस्ट पार्टी
(फाइल फोटो साभार - रॉयटर्स)

बीजिंग: अमेरिका के साथ चल रहे व्यापार युद्ध के बीच अपनी धीमी होती अर्थव्यवस्था से लगातार जूझ रहे चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीसी) के एक प्रभावशाली सदस्य ने अपनी पार्टी को पूर्व सोवियत संघ के विघटन की याद दिलाते हुए चेतावनी दी है कि वह उन गलतियों से सीख ले जिनकी वजह से सोवियत संघ खत्म हुआ.

सीपीसी के सुधारवादी महासचिव रहे दिवंगत हू याओबांग के बेटे हू डेपिंग ने कहा, ‘(सोवियत के शासकों की ओर से की गई) घातक गलतियों में से एक यह थी कि उन्होंने बहुत ही केंद्रीकृत सत्ता वाली राजनीतिक व्यवस्था का पालन किया. हर समाजवादी देश ऐसा नहीं करता.’ गौरतलब है कि हू याओबांग की मृत्यु के बाद ही 1989 में कुख्यात तियानमेन स्क्वेयर दमन कांड हुआ था.

हांगकांग से प्रकाशित होने वाले अखबार साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने सीपीसी के उदारवादी धड़े से संबंध रखने वाले डेपिंग द्वारा एक सेमिनार में दिए गए व्याख्यान के हवाले से कहा है, ‘दूसरी (गलती) यह थी कि उनकी आर्थिक व्यवस्था काफी अड़ियल थी. इसी तरह, हर समाजवादी देश योजनाबद्ध अर्थव्यवस्था पर अमल नहीं करता.’

अपने संबोधन में डेपिंग ने सीपीसी से अपील की है कि वह ‘सक्रिय रूप से राजनीतिक सुधार’ की संभावनाएं तलाशे. हालांकि, उन्होंने इसका ब्योरा नहीं दिया. डेपिंग का संबोधन इस बात का संकेत है कि देश के सामने मौजूद आर्थिक संकट के बीच सत्ताधारी सीपीसी में असंतोष उभर रहा है.

76 साल के डेपिंग 2013 तक परामर्श देने वाली इकाई चाइनीज पीपुल्स पोलिटिकल कंसल्टेटिव कांफ्रेंस के सदस्य रहे हैं. वह निजी क्षेत्र एवं बाजार सुधार के घोर समर्थक हैं.