New Year 2021: Science के क्षेत्र में शानदार रहेगा नया साल, होंगी नई खोज और खुलेंगे रहस्य

नया साल 2021 (New Year 2021) विज्ञान के क्षेत्र (Science Field) के लिए बेहद खास साबित होने वाला है. इस साल कई ऐसे सवालों के जवाब मिलेंगे, जो मानव कल्याण (Human Development) के लिए काफी जरूरी हैं. कोरोना वायरस (Coronavirus) से लेकर अंतरिक्ष (Space) तक, ऐसे कई रहस्य हैं, जो इस साल (Science In 2021) सुलझने वाले हैं.

New Year 2021: Science के क्षेत्र में शानदार रहेगा नया साल, होंगी नई खोज और खुलेंगे रहस्य
विज्ञान के क्षेत्र में 2021 होगा शानदार

Corनई दिल्ली: कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण साल 2020 शुरुआत से ही सभी के लिए त्रासदी से भरा रहा था. इसीलिए नए साल 2021 (New Year 2021) से सभी को काफी उम्मीदें हैं. विज्ञान (Science) के क्षेत्र के लिए पुराने साल 2020 की तरह नया साल 2021 (New Year 2021) काफी खास रहने वाला है. दरअसल, 2021 में विज्ञान (Science In 2021) के क्षेत्र में ऐसे कई काम होने जा रहे हैं, जो सुर्खियों में छाए रहेंगे.

वैज्ञानिक उम्मीद कर रहे हैं कि 2021 भी 2020 की तरह विज्ञान के मामले में शानदार रहेगा. इस साल अंतरिक्ष अनुसंधान (Space Exploration) के क्षेत्र में पिछले साल के दो प्रयासों के नतीजों का वैज्ञानिकों और लोगों का बेसब्री से इंतजार होगा. 

अंतरिक्ष के क्षेत्र से मिलेगी खुशखबरी

इस साल दो रोवर मंगल ग्रह (Mars) की सतह पर उतरने का प्रयास करेंगे. नासा (NASA) का पर्सीवरेंस रोवर 18 फरवरी, 2021 को मंगल की सतह पर उतरेगा. उसी के आसपास चीन (China) का तियानवेन-1 अभियान भी एक ऑर्बिटर, एक लैंडर और एक गोल्फ कार्ट के आकार के रोवर के साथ मंगल तक पहुंचेगा. साल 2021 में अंतरिक्ष अनुसंधान (Space Research) के लिए एस्ट्रोनोमर और वैज्ञानिकों के लिए बहुत ही अच्छी खबर आने वाली है. काफी लंबे समय से इंतजार कर रहे वो पल जिसका इंतजार खत्म होने वाला है. 

यह भी पढ़ें- 3300 साल पुराने Baboon की खोपड़ी से मिल सकता है मिस्र का खजाना, जानिए रहस्य

अन्य पिंडों को लेकर होगी नई खोज

नासा इस साल जेम्स वेब स्पेस टेलिस्कोप (James Webb Space Telescope, JWST) का प्रक्षेपण करने जा रहा है. यह इन्फ्रारेड टेलीस्कोप होगा जो अंतरिक्ष में स्थापित होने के बाद सुदूर तारों और अन्य पिंडों के बारे में गहराई से जानकारी दे सकेगा, जो अब तक नहीं मिल सकी थी. पिछले बहुत से शोध इस टेलीस्कोप की प्रतीक्षा में हैं. अमेरिका (US) में सत्ता परिवर्तन का असर विज्ञान की क्षेत्र में देखने को मिलेगा.अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) पहले ही संकेत दे चुके हैं कि उनका जोर दुनिया की पर्यावरण (Environment) जैसे समस्याओं पर ज्यादा केंद्रित होगा. 

वैज्ञानिक कोरोना के जड़ का लगाएंगे पता

इस साल कोरोना का असर कम होने की उम्मीद कर रहे हैं. साथ ही विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) इस बात की जांच करेगा कि कोरोना वायरस (Coronavirus) कैसे पैदा हुआ और कैसे फैला. इस साल 10 वैज्ञानिकों की अंतरराष्ट्रीय टीम चीन (China) की यात्रा करेगी और कोरोना वायरस की उत्पत्ति के बारे में जांच करेगी. टीम इस बात का पता करेगी कि वायरस इंसानों में क्या चमगादड़ से ही आया या फिर किसी और जानवर के जरिए आया.

यह भी पढ़ें- यह है दुनिया की सबसे रहस्यमयी घाटी, यहां से मिलता है दूसरी दुनिया का सीधा रास्ता

कैंसर के लिए दवा मिल सकती है

साथ ही इस साल कैंसर (Cancer) जैसे बीमारी के लिए  के लिए एक कारगर दवा (Drug) मिल सकती है. पिछले तीस सालों से वैज्ञानिक KRAS नाम के प्रोटीन (Protien) को नियंत्रित करने की कोशिश कर रहे हैं, जिसकी वृद्धि बहुत से कैंसर होने के संकेत मिलते हैं. KRAS अभी तक दवाओं से बेअसर रहा है क्योंकि वैज्ञानिकों इसमें काम करने के तरीके नहीं मिल सके हैं. इस साल इसकी दवा को इस साल मंजूरी मिल सकती है. यह कैंसर की पहली अधीकृत दवा होगी. 

विज्ञान से जु़ड़ी अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

LIVE TV

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.