Coronavirus: शोएब अख्तर हुए भारतीयों के मुरीद, पाकिस्तानियों को लगाई जमकर लताड़

Coronavirus: पाकिस्तान में कोरोना वायरस के 900 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं जबकि छह लोगों की अब तक इससे मौत हो चुकी है.

Coronavirus: शोएब अख्तर हुए भारतीयों के मुरीद, पाकिस्तानियों को लगाई जमकर लताड़

लाहौर: पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब अख्तर ने कोरोना वायरस (Coronavirus) से निपटने के लिए अपने देश के लोगों की लापरवाही को लेकर उन्हें जमकर लताड़ लगाई है. उन्होंने लोगों द्वारा सरकार के निर्देशों का पालन नहीं करने के कारण अब पूरे देश में लॉकडाउन (Lockdown) की मांग की है. पाकिस्तान (Pakistan) में कोरोना वायरस के 900 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं जबकि छह लोगों की अब तक इससे मौत हो चुकी है.

शोएब अख्तर (Shoaib Akhtar) ने अपने यूटयूब चैनल पर कहा, "मैं आज कुछ जरूरी काम से बाहर गया था. मैंने लोगों से हाथ नहीं मिलाया और ना ही किसी से गले मिला. पूरे समय मेरे कार की खिड़कियां बंद थी. मैं जितनी जल्दी हो सका, उतनी जल्दी घर वापस आ गया. लेकिन, इस दौरान मैंने बाहर बेहद डराने वाली चीजें देखी. मैंने देखा कि एक बाइक पर चार लोग घूम रहे हैं. वे दूसरे लोगों के लिए भी बीमारी फैला रहे हैं. लोग घर से बाहर एक साथ खाना खा रहे हैं. एक स्थान से दूसरे स्थान पर जा रहे हैं. रेस्टोरेंट अभी भी क्यों खुले हैं, उन्हें बंद क्यों नहीं करते."

यह भी पढ़ें: Olympics: टोक्यो दोहराएगा इतिहास, टलेंगे खेल! जानें कब-क्यों और कितनी बार रद हुए हैं ओलंपिक

पूर्व तेज गेंदबाज ने कहा कि पाकिस्तान के लोग कोरोना वायरस जैसी खतरनाक महामारी को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं और उन्हें भारतीयों (India) से कुछ सीखना चाहिए. अख्तर ने कहा, "भारत में लोग कर्फ्यू लगा रहे हैं. लेकिन, पाकिस्तान में हम अब भी खुले में घूम रहे हैं. 90 प्रतिशत मामले लोगों के संपर्क में आने से सामने आते हैं, लेकिन हम घर में रहने को तैयार नहीं हैं. हम क्या कर रहे हैं. यह बहुत खतरनाक है."

शोएब अख्तर ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) से पूरे देश में लॉकडाउन की मांग की है. उन्होंने कहा, "मैं पाकिस्तान सरकार से सख्त कार्रवाई की मांग करता हूं और पूरे देश को भी लॉकडाउन करने की. इटली ने शुरुआत में ही लॉकडाउन नहीं करके बहुत बड़ी गलती की. वहां हर रोज लोग मर रहे हैं. मैं पाकिस्तान सरकार से दरख्वास्त करता हूं कि लोगों को जरूरी सामान खरीदने के लिए समय दें और फिर लॉकडाउन कर दें.