close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जानिए क्यों कहना पड़ा विनोद राय को, 'नहीं है मेरा कोई सोशल मीडिया अकाउंट'

Indian Cricket: पूर्व बीसीसीआई सीओए प्रमुख विनोद राय ने बीसीसीआई की एसीयू और दिल्ली पुलिस की साइबर क्राइम सेल को बताया है कि उनका कोई भी सोशल मीडिया अकाउंट नहीं है.

जानिए क्यों कहना पड़ा विनोद राय को, 'नहीं है मेरा कोई सोशल मीडिया अकाउंट'
विनोद राय का कहना है कि उनका फेसबुक और अन्य किसी सोशल मीडिाय पर कोई अकाउंट नहीं है. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: बीसीसाई की पूर्व प्रशासकों की समिति के प्रमुख विनोद राय (Vinod Rai) ने कहा है कि उनका कोई सोशल मीडिया अकाउंट नहीं है और इसकी सूचना उन्होंने बीसीसीआई (BCCI) के भ्रष्ट्राचार रोधी ईकाई (Anti Corruption Unit, ACU) और दिल्ली पुलिस की साइबर क्राइम सेल को दे दी है. 

बहुत से जाली अकाउंट सामने आए हैं राय के
पिछले कुछ दिनों से कई जाली सोशल मीडिया अकाउंट सामने आ रहे हैं जिनमें दावा किया जा रहा है कि वे विनोद राय के अकाउंट हैं इन अकाउंट से कई मैसेज भेजे गए हैं जिसमें नए खिलाडियों से जानकारी मांगी गई है. इस मुद्दे पर बात करते हुए राय ने मीडिया से कहा, मेरे नाम से कुछ जाली अकाउंट्स खोले गए हैं. मैंने इस बारे में में बीसीसीआई की एसीयू  और दिल्ली पुलिस की साबर क्राइम सेल को सूचना दे दी है. एक दो अकाउंट बंद हो गए हैं, लेकिन कुछ और अकाउंट सामने आए हैं."

यह भी पढ़ें: ग्लेन मैक्सवेल ने लिया 'इस' वजह से क्रिकेट से ब्रेक, जल्द वापसी की है उम्मीद

कोई अकाउंट नहीं है मेरा- राय
राय ने यह भी साफ किया कि उनका किसी भी सोशल मीडिया पर कोई भी अकाउंट नहीं है. " मैं साफ कर देना चाहता  हूं कि मेरा फेसबुक, इंस्टाग्राम या ट्विटर पर कोई अकाउंट नहीं है. कोई भी जो मेरे नाम से किसी भी तरह की जानकारी मांग रहा है, वह जालसाजी कर रहा है ऐसे लोगों की रिपोर्ट किए जाने की जरूररत है. वे उभरते हुए खिलाड़ियों की जानकारी मांग रहे हैं जो कि बहुत गलत है."

हाल ही में खत्म हुआ है राय का यह खास काम
गौरतलब है कि हाल ही में नए संविधान के मुताबकि बीसीसीआई में चुनाव कराए गए हैं जिसके बाद 33 महीनों से सुप्रीम कोर्ट के द्वारा नियुक्त प्रशासकों की समिति का कार्यकाल भी खत्म हो गया था. विनोद राय इसी समिति के अध्यक्ष थे. राय की समिति पर लोढ़ा समिति की सिफारिशों को लागू करने की जिम्मेदारी थी जिसे सुप्रीम कोर्ट ने क्रिकेट में भ्रष्टाचार हटाने के लिए सिफारिशें देने के लिए गठित किया था. 
(इनपुट एएनआई)