जब विराट से पूछा गया रिटायरमेंट पर सवाल, उन्होंने बता दिया अगले 3 साल का प्लान

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने कहा कि आने वाले 2 से 3 साल उनके लिए होगे चुनौतीपूर्ण

जब विराट से पूछा गया रिटायरमेंट पर सवाल, उन्होंने बता दिया अगले 3 साल का प्लान
विराट कोहली का अगले तीन साल का कार्यक्रम बहुत व्यस्त है. (फोटो: PTI)

वेलिंग्टन: टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने क्रिकेट में अपने आने वाले तीन साल की योजना के बारे में बताया है.न्यूजीलैंड के खिलाफ (India vs New Zealand) टेस्ट सीरीज शुरू होने से पहले विराट ने मीडिया से बातचीत करते समय आने वाले समय में किसी एक प्रारूप से रिटायर होने के सवाल पर जवाब देते हुए इस बारे में बात की. 

विराट ने कहा है कि अब उनका पूरा ध्यान आने वाले 2 से 3 वर्षो पर हैं जहां इस बीच दो टी-20 विश्व कप और वनड़े विश्व कप खेला जाना है और वह इस दौरान टीम को जीत दिलाना चाहते हैं. भारतीय टीम को शुक्रवार से दो मैचों की टेस्ट सीरीज का पहला मुकाबला खेलना है.

यह भी पढ़ें: IND vs NZ: टेस्ट सीरीज से पहले विराट ने बताया, जीत के लिए किन बातों पर होगा फोकस

विराट कोहली ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा, "मेरा ध्यान बड़ी चीजों पर है. मैं आने वाले तीन सालों की तैयारी कर रहा हूं और इसके बाद फिर हम अलग तरिके से बात करेंगे." कोहली ने कहा जब मैं 34 या 35 साल का हो जाऊंगा तो फिर मेरा शरीर ज्यादा भार नहीं ले सकेगा, तब हम बात करेंगे. उन्होंने कहा, "मैं इसी ऊर्जा के साथ के काम कर सकता हूं और साथ ही समझता हूं कि टीम अगले दो-तीन वर्षो में मुझसे ज्यादा सहयोग चाहती है, ताकि मैं एक और बदलाव कर सकूं, जो हम आने वाले पांच-छह साल में देख सकते हैं."

कोहली ने साथ ही थकान और काम के बोझ के मुद्दे पर भी बात रखी. कप्तान कोहली ने कहा, "यह ऐसी बात नहीं है कि जिसे आप छुपा सकें. यह बीते तकरीबन आठ साल से चल रही है. मैं साल के 300 दिन खेल रहा हूं, जिसमें सफर करना और अभ्यास सत्र भी शामिल है और मेरी ऊर्जा हर समय बनी रहती है."

यह भी पढ़ें: IND vs NZ: टेस्ट सीरीज को लेकर बोले टेलर, बुमराह ही नहीं, इस पेसर से भी होगा खतरा

अपने बिजी शेड्यूल के बारे में विराट ने कहा, "ऐसा नहीं है कि खिलाड़ी इस बारे में नहीं सोच रहे हों. हम निजी तौर पर भी ब्रेक लेते हैं, तब भी जब कार्यक्रम हमें ऐसा करने की इजाजत नहीं देता है. खासकर वो खिलाड़ी जो तीनों प्रारूप खेलते हैं."

दाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने कहा, "कप्तान होना आसान नहीं है. इससे आप पर काफी भार आता है. बीच-बीच में ब्रेक लेना काम करता है."
(इनपुट आईएएनएस)